Thursday, June 12, 2008

श्री सरवर आलम राज़ 'सरवर'















'सरवर'



16 मार्च 1935 को मध्य प्रदेश में जन्मे सरवर आलम राज़ 'सरवर' ने
ए.एम.यू. से बेकलारिएट और सिविल इंजिनियरिंग की और ए.एम.यू.में ही
प्राध्यापक भी बन गये. 1964 में आप उच्च अध्ययन के लिए यू.एस.ए.चले गये.
बतौर सिविल स्ट्र्क्चरल इन्जिनियर आपने विभिन्न अन्तर्राष्ट्रीय इंजिनियरिंग फ़र्मों के लिए अपनी सेवाएँ दीं.
अदबी पृष्ठभूमि वाले परिवार से सम्बन्ध रखने वाले सरवर साहिब उर्दू शायर,
अफ़सानानिगार तो हैं ही, फ़न—ए—शाइरी के अरूज़ के माहिर भी है.
शहर—ए—निगार,रंग—ए—गुलनार,दर्रा—ए—शहवार ,तीसरा हाथ,बाक़ियाते—राज़ इनकी प्रसिद्ध किताबें हैं.आजकल आप Carrollton (a small town next to Dallas), Texas, USA में रहते हैं और उर्दू ज़बान और अदब को समर्पित हैं.











ग़ज़ल १

सुबह नहीं है शाम नहीं है
दिल को क्यों आराम नहीं है

SubH naheeN hai shaam naheeN hai
dil ko kyoN aaraam naheeN hai?

शाम—ओ—सहर यह रोना ऐ दिल
और कोई क्या काम नहीं है?

shaam-o-saHar yeh ronaa ai dil
aur koyee kyaa kaam naheeN hai?

मुझ को तुझ से शिक्वा ? तौबा!
कुफ़्र है यह इस्लाम नहीं है

mujh ko tujh se shikwah? taubah!
kufr hai yeh Islam naheeN hai!

ज़ख़्म—ए—वफ़ा, आलाम—ए—मुहब्बत
यह तुह्फ़ा बेदाम नहीं है!

zaKhm-e-wafaa, aalaam-e-muHabbat
yeh tuHfah be-daam naheeN hai!

उनकी नज़रें ऐसी बदलीं
मय वो नहीं वो जाम नहीं है


un kee naz^reN aisee badleeN
mai woh naheeN, woh jaam naheeN hai

बात है कोई वर्ना क्यों अब
पहला—सा इकराम नहीं है


baat hai koyee warnah kyoN ab
pehlaa saa ikraam naheeN hai

क़ैद—ए—मुहब्बत,अल्लाह!अल्लाह!
सहल कोई ये काम नहीं है

qaid-e-muHabbat, Allah! Allah!
sehl koyee yeh kaam naheeN hai

राह—ए—वफ़ा ही खुद टेढ़ी है
तुझ पर कुछ इल्ज़ाम नहीं है

raah-e-wafaa hee Khud TeRhee hai
tujh par kuchh ilzaam naheeN hai

अपनी करनी सब भरते हैं
ग़ैर की भरना आम नहीं है

apnee karnee sab bharte haiN
ghair kee bharnaa a'am naheeN hai

दुनियादारी , दुनियासाज़ी!
अपना तो यह काम नहीं है



duniyaa-daaree, duniyaa-saazee!
apnaa to yeh kaam naheeN hai

सरवर! तूने कुछ तो किया है
यूँ ही तो बदनाम नहीं है

:Sarwar:! too ne kuchh to kiyaa hai
yooN hee to badnaam naheeN hai
bahr—e—mutdaarik kaa zihaaf fa.u.lun
============================
saHar = SubH
aalaam = raNj
mai = sharaab
ikraam = chaahat, i'zzat
duniyaa-saazee = jhooTee baateN banaanaa

**************************************************************








ग़ज़ल २

kahaaN se aa gaYe tum ko nah jaane
bahaane, aur phir aise bahaane!
कहाँ से आ गये तुम को न जाने
बहाने और फिर ऐसे बहाने


zamaanah kyaa bohat kaafee naheeN thaa?
jo tum aaYe ho mujh ko aazmaane!
ज़माना क्या बहुत काफ़ी नहीं था?
जो तुम आये हो मुझ को आज़माने?

hawaa-e-naamuraadee! tere Sadqe
bahaar apnee,nah apne aashyaane!
हवा—ए—नामुरादी तेरे सदक़े
बहार अपनी न अपने आशियाने!

laboN par muhr-e-Khaamoshee lagee hai
diloN meN band haiN kitne fasaane!
लबों पर मुहर—ए—ख़ामोशी लगी है
दिलों में बन्द हैं कितने फ़साने!


nah maut apnee, nah apnee zindagee hai
magar Heele wohee haiN sab puraane!
न मौत अपनी न अपनी ज़िन्दगी है
मगर हीले वही हैं सब पुराने



yeh duniyaa, be-wafaa, be-mehr duniyaa!
yeh roz-o-shab, yeh is ke taane-baane!
यह दुनिया बेवफ़ा,बे—मेह्र दुनिया
ये रोज़—ओ—शब ये इसके ताने—बाने!


zamaane ne lagaayee aisee Thokar
hamaare hosh aaYe haiN Thikaane!
ज़माने ने लगाई ऐसी ठोकर
हमारे होश आये हैं ठिकाने!



kahaaN tak tum karo ge fikr-e-duniyaa?
chale aa,o kabhee tum bhee manaane!
कहाँ तक तुम करोगे फ़िक्र—ए—दुनिया
चले आओ कभी तुम भी मनाने


judaa sab se miraa Zauq-e-t^lab hai
nah shor-e-giryah, nay aah-o-fuGhaane!
जुदा जबसे मिरा ज़ौक़—ए—तलब है
न शोर—ए—गिर्या,न आह—ओ—फ़ुग़ाने

nah woh saaqee, nah woh maiKhaanah baaqee
kahaaN aaKhir gaYe agle zamaane?
न वो साक़ी न वो मयख़ाना बाक़ी
कहाँ आखिर गये अगले ज़माने?


Zaraa dekho to Dar kar bijliyoN se
jalaa Daale Khud apne aashyaane!
ज़रा देखो तो डर कर बिजलियों से
जला डाले ख़ुद अपने आशियाने

mileN ge ek din "Sarwar" se jaa kar
agar taufeeq dee ham ko Khudaa ne!
मिलेंगे एक दिन 'सरवर' से जाकर
अगर तौफ़ी॔क़ दी हमको खुदा ने.
Bah'r Hazaj Musaddas Mahzuuf:

Ma - faa - ii - lun Ma - faa - ii - lun Fa - uu - lun

=================================
hawaa-e-naamuraadee = naa-ummeedee kee hawaa
Sadqe = wajh se
muhr-e-Khaamoshee = chup rehne kee muhr yaa bandish
be-mehr = pyaar nah karne waalee
roz-o-shab = din raat
Zauq-e-t^alab = maaNgne kaa andaaz
shor-e-giryah = rone-dhone kaa shor
aah-o-fuGhaane = aaheN bharnaa aur shikaayat karnaa
aashyaane = ghoNsle
taufeeq = himmat