Monday, April 13, 2009

डा. दरवेश भारती की एक ग़ज़ल











डा. दरवेश भारती एक अच्छे शायर के साथ-साथ अरूज़ी भी हैं और एक त्रैमासिक पत्रिका का संपादन भी कर रहे हैं.आज की ग़ज़ल पर उनकी एक ग़ज़ल आप सब के लिए.


ग़ज़ल

उनसे मिलना पाप हो गया
जीवन इक अभिशाप हो गया

उनका इकदम भूलना मुझे
दुर्वासा का शाप हो गया

पहले तो था बाप बाप ही
अब तो बेटा बाप हो गया

इतना मुश्किल काम क्या कहे
कैसे यूं चुपचाप हो गया

तुमसे गुपचुप बात हो गयी
गायत्री का जाप हो गया

शायद थे सत्कर्म पूर्व के
उनसे जो संलाप हो गया

जाने क्यों "दरवेश" आजकल
तू से तुम फिर आप हो गया

दो अशआर

ये बनाते हैं कभी रंक कभी राजा तुम्हें
ख्वाब तो ख़्वाब हैं ख़्वाबों पे भरोसा न करो

प्यार कर लो किसी लाचार से बेबस से फकत
चाहे पूजा किसी पत्थर की करो या न करो

शायर का पता:
डा॰ ‘दरवेश’ भारती
1414/14, गाँधी नगर
रोहतक - 124001
(हरियाणा)
+ 91 9968405576, 9416514461
ghazalkebahane.darveshbharti@gmail.com