Monday, April 20, 2009

प्रफुल्ल कुमार 'परवेज़' की ग़ज़लें और परिचय









जन्म: 24 सितम्बर 1947
निधन: 24 जुलाई 2006


परिचय:
24 सितम्बर, 1947 को कुल्लू (हिमाचल प्रदेश ) में जन्मे श्री प्रफुल्ल कुमार 'परवेज़' ने 1968 में पंजाब इंजीनियरिंग कालेज से प्रोडक्शन इंजीनियरिंग में डिग्री की. 'रास्ता बनता रहे' (ग़ज़ल संग्रह) तथा 'संसार की धूप' (कविता संग्रह) के चर्चित कवि, ग़ज़लकार 'परवेज़' की अनुभव सम्पन्न दृष्टि में 'बनिये की तरह चौखट पर पसरते पेट' से लेकर जोड़, तक्सीम और घटाव की कसरत में फँसे, आँकड़े बनकर रह गये लोगों की तक़लीफ़ें, त्रासदी और लहुलुहान हक़ीक़तें दर्ज़ हैं जो उनकी ग़ज़लों के माध्यम से, पढ़ने-सुनने वाले की रूह तक उतर जाने क्षमता रखती हैं.

हिमाचल के बहुत से युवा कवियों के प्रेरणा—स्रोत व अप्रतिम कवि श्री प्रफुल्ल कुमार 'परवेज़' 24 जुलाई, 2006 इस संसार को अलविदा कह गये.उनकी चार ग़ज़लें आप सब ले लिए:

ग़ज़ल

भुरभुरी हिलती हुई दीवार गिर जाने तो दो
इस अँधेरी कोठरी में रौशनी आने तो दो

एक सूरज वापसी पर साथ लेता आऊँगा
इस अँधेरे से मुझे बाहर ज़रा जाने तो दो

आप मानें या न मानें ये अलग इक बात है
इस अँधेरे की वजह तुम मुझको समझाने तो दो

कुछ न कुछ तो आएगा ही इसके अंदर से जवाब
इस मकाँ के बन्द दरवाज़े को खटकाने तो दो

क्या ख़बर इस ठण्ड में कुछ आग हो जाए नसीब
राख के नीचे दबे शोलों को सुलगाने तो दो

ऐसा लगता है कि मिल जाएगा मंज़िल का सुराग
शम्अ पर जलने की ख़ातिर चन्द परवाने तो दो

इस बियाबाँ में यक़ीनन रंग लाएगी बहार
तुम ज़रा इस सम्त कुछ ताज़ा हवा आने तो दो

बहरे-रमल(मुज़ाहिफ़ शक्ल)
फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन






ग़ज़ल

हक़ हमारा छीन कर कुछ दान कर देते हैं वो
हम ग़रीबों पर बड़ा एहसान कर देते हैं वो

साफ़ सुनने की जहाँ भी कोशिशें करते हैं हम
बस वहीं बहरे हमारे कान कर देते हैं वो

बाँटते हैं रौशनी ईनआम में कुछ आपको
और कुंठित आपका ईमान कर देते हैं वो

उनके क़िस्से , उनकी बातें, उनके सारे फ़लसफ़े
आदमी को दोस्तो हैवान कर देते हैं वो

क्यूँ यहाँ हर रास्ते पर आज ट्रैफ़िक जाम है
पूछ ले कोई अगर चालान कर देते हैं वो

बहरे-रमल(मुज़ाहिफ़ शक्ल)
फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन








ग़ज़ल

अजीब रंग के दहरो-दयार थे यारो
तमाम लोग हवा पर सवार थे यारो

हर एक शख़्स को हमने जो ग़ौर से देखा
हर एक शख़्स के चेहरे हज़ार थे यारो

दयार-ए-ग़ैर में शिक़वे फ़ज़ूल थे वर्ना
हमारे दिल में बहुत-से ग़ुबार थे यारो

हमारा ज़र्फ़ कि हँस कर गुज़ार दी हमने
हयात में तो बहुत ग़म शुमार थे यारो

ये बात और कि वो शख़्स बेवफ़ा निकला
ये बात और हमें ऐतबार थे यारो

बहरे-मजतस
म'फ़ा'इ'लुन फ़'इ'लातुन म'फ़ा'इ'लुन फ़ा'लुन(फ़'इ'लुन)
1212 1122 1212 22/ 112






ग़ज़ल

वो कि जलते हुए सहरा में घटा जैसा था
ज़िन्दगी का ये सफ़र वर्ना सज़ा जैसा था

धूप दर धूप ही था यूँ तो मुकद्दर अपना
एक वो था कि फ़कत सर्द हवा जैसा था

उसके बारे में सिवा इसके भला क्या कहिये
सबके जैसा था मगर सबसे जुदा जैसा था

हमसे पूछो कि वहाँ कैसे गुज़र की हमने
यूँ उसके शहर का हर शख़्स ख़ुदा जैसा था

ज़िन्दगी क्या थी फ़क़त दर्दे मुसल्सल के सिवा
और वो शख़्स कि मरहम था दवा जैसा था

बहरे-रमल (मुज़ाहिफ़ शक्ल)
फ़ाइलातुन फ़'इ'लातुन फ़'इ'लातुन फ़’इ’लुन(फ़ालुन)
2122 1122 1122 112/22