Tuesday, November 3, 2009

बलवीर राठी की ग़ज़लें और परिचय











उर्दू अदब को जाने बिना ग़ज़ल कहना बैसा ही है जैसे कबीर को पढ़े बिना दोहा लिखना।गा़लिब से परिचित हुए बगैर कोई ग़ज़ल नहीं कह सकता है। खै़र,आज हम ग़ज़लें पेश कर रहे हैं,1934 में हरियाणा में जन्में बलवीर राठी की, जिनके अब तक ३ ग़ज़ल संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं।बज़ुर्ग शायर हैं और बहुत अच्छी ग़ज़लें कहते हैं और हरियाणा साहित्य अकादमी से सम्मान हासिल कर चुके हैं।

एक

गो पुरानी हो चुकी अब होश में आने की बात
लोग फिर भी कर रहे हैं मुझको समझाने की बात

रफ़्ता-रफ़्ता ढल गई है सैंकड़ों नग़मात में
ए दिले-मासूम तेरे एक अफ़साने कि बात

अपना-अपना ग़म लिए फिरते हैं इस दुनिया में लोग
कौन समझेगा यहाँ अब तेरे दीवाने की बात

ज़िंदगी उलझी हुई है और ही जंजाल में
अब कहां वो साग़रो-मीना की, मयखाने की बात

अजनबी माहौल में अपने तो लब खुलते नहीं
तुम ही छेड़ो आज इस रंगीन अफ़साने की बात

(रमल की मुज़ाहिफ़ शक़्ल)

दो

तेज़ लपटों में ढल गया हूँ मैं
कोई सूरज निगल गया हूँ मैं

कितने राहत-फ़िज़ा थे अंगारे
बर्फ लगते ही जल गया हूँ मैं

तुमने बांधा था जिन हदों मे मुझे
उन हदों से निकल गया हूँ मैं

हासिदो ! मेरा ज़ुर्म इतना है
तुमसे आगे निकल गया हूँ मैं

मत बुलंदी की बात कर "राठी"
अब वहां से फिसल गया हूँ मैं

(बहरे-खफ़ीफ़ की मुज़ाहिफ़ शक्ल)
फ़ा’इ’ला’तुन मु’फ़ा’इ’लुन फ़ा’लुन
2122 1212 22

तीन

हमें साथ मिल तो गया था किसी का
मगर मुख़्तसर था सफ़र ज़िंदगी का

कहाँ आ गए हम भटकते-भटकते
यहाँ तो निशां तक नहीं रौशनी का

वफ़ा एक मुद्दत हुई मिट चुकी है
कहाँ नाम लेते हो अब दोस्ती का

अगर साथ होते वो इन रास्तों पर
तो क्या हाल होता मेरी आगही का

मेरे हाल पर मुस्करा कर गए हैं
चलो हक़ अदा हो गया दोस्ती का

बहरे-मुतका़रिब मसम्मन सालिम
(चार फ़ऊलुन )122x4


शायर का पता-
3836 अरबन इस्टेट
जींद- हरियाणा
फोन-01681-247351