Tuesday, March 9, 2010

मख़्मूर सईदी साहब को श्रदाँजलि











जाना तो मेरा तय है मगर ये नहीं मालूम
इस शहर से मैं आज चला जाऊँ कि कल जाऊँ
...मख़्मूर

1934 को टोंक (राजस्थान) में जन्मे सुल्तान मुहम्मद खाँ उर्फ़ मख़्मूर सईदी, 2 मार्च 2010 को अपनी ज़िंदगी का सफ़र ख़त्म करके इस दुनिया से विदा हो गए। इनकी प्रमुख कृतियाँ हैं-पेड़ गिरता हुआ,गुफ़्तनी, सियाह बर सफ़ेद, आवाज़ का जिस्म, सबरंग, आते-जाते लम्हों की सदा, बाँस के जंगलों से गुज़रती हवा, दीवारो-दर के दरमियाँ हैं। इन्हें दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार,और राजस्थान उर्दू अकादमियों के पुरस्कारों के अलावा केन्द्रीय साहित्य अकादमी से भी सम्मान हासिल हुआ।

शायर तमाम उम्र शे’र उधेड़ता-बुनता रहता है और कुछ खोजता रहता है। इस बात को लेकर मीर ने यूँ कहा है-

गई उम्र दर बंद-ऐ-फ़िक्र-ऐ-ग़ज़ल
सो इस फ़न को ऐसा बड़ा कर चले


ऐसा ही कुछ मख़्मूर साहब ने भी किया। अपनी उम्र के ७६ सालों में शायरी के पुराने और नये दौर को नज़दीक से देखा है और वक़्त के हिसाब से ख़ुद को ढाला भी। रिवायती और जदीद शायरी की बात आती है तो टी.एस. इलीयट के ये शब्द ख़ास मायने रखते हैं जो कुछ दिन पहले किसी किताब में पढ़ने को मिले-

"साहित्य में भी कवि को परंपरा का ख़याल रखना चाहिए। यदि परंपरा को छोड़कर कवि अपनी ही संवेदनाओं में उलझ जाए और अपने ही दुख-दर्द की बात कहे तो वो असली मक़सद से भटक जाता है। परंपरा के ख़याल से दो फ़ायदे होते हैं-

कवि को पता चल जाता है कि उसे क्या कहना या लिखना है, कैसे कहना है और उसे परंपरा के ज्ञान से अपनी कृति की क़ीमत पता चल जाती है।"

और ये बात भी पक्की है कि शायर को अपने वक़्त के साथ चलते हुए भी अपना अलग रस्ता इख़्तियार करना होता है तभी वो सफ़ल शायर बन सकता है। ऐसा ही कुछ मख़्मूर साहब ने किया, रिवायत की नींव पर जदीद शायरी की मंज़िलें खड़ी कीं। पुरानी और नयी शराबें जब मिलती हैं तो नशा दूना हो जाता है। देखिए, मख़्मूर साहब के अशआर नये लहजे की पैरवी करते हुए

पत्ते हिलें तो शाखों से चिंगारियाँ उड़ें
सर सब्ज़ पेड़ आग उगलते हैं धूप में

चारो तरफ़ हवा की लचकती कमान है
ये शाख से परिन्दे की पहली उड़ान है

रेत का ढेर थे हम,सोच लिया था हम ने
जब हवा तेज़ चलेगी तो बिखरना होगा

पार करना है नदी को तो उतर पानी में
बनती जाएगी ख़ुद एक राहगुज़र पानी में

दिन मुझे क़त्ल करके लौट गया
शाम मेरे लहू में तर आई

भीड़ में है मगर अकेला है
उस का क़द दूसरों से ऊँचा है

मैं तो ये मानता हूँ कि रिवायत हमें ये बताती है कि कैसे कहना है? लेकिन किस अंदाज़ में कहना है? ये शायर ख़ुद तय करता है। अगर शायर अपनी बात को किसी दूसरे पुराने शायर के ओढ़े हुए अंदाज़,मिज़ाज या पुराने प्रतीकों का इस्तेमाल करके, ज़रा से हेर-फेर से शे’र कहता है तो रिवायती शायर है। लेकिन अगर वो ग़ज़ल के मिज़ाज को ठेस पहुँचाए बिना अपने अंदाज़ में, अपने प्रतीकों से अलग बात कह देता है तो वो जदीद है। मगर हुआ यूँ कि इश्क़-मुहव्बत की बात करना वाले को ही लोग रिवायती शायर समझने लग गए। बदकि़स्मती ये है कि ग़ज़ल में काजू, किशमिश,विस्की,विधायक, संसद आदि का ज़िक्र करना जदीद शायरी की निशानी बन गया है, मिज़ाज और लहजा क्या होता कुछ शायर इसे समझने की ज़हमत नहीं उठाते। ख़ैर , मख़्मूर साहब की तीन ग़ज़लें मुलाहिज़ा कीजिए-

ग़ज़ल

कितनी दीवारें उठीं है एक घर के दरमियाँ
घर कहीं गुम हो गया दीवारो-दर के दरमियाँ

जगमगाएगा मेरी पहचान बनकर मुद्दतों
एक लम्हा अनगिनत शामो-सहर के दरमियाँ

वार वो करते रहेंगे ज़ख़्म हम खाते रहें
है यही रिश्ता पुराना संगो-सर के दरमियाँ

क्या कहें? हर देखने वाले को आख़िर चुप लगी
गुम था मंज़र इख़्तिलाफ़ाते-नज़र के दरमियाँ

किसकी आहट पर अँधेरे में क़दम बढ़ते रहे
रू नुमा था कौन इस अंधे सफ़र के दरमियाँ

कुछ अँधेरा सा उजाले से गले मिलता हुआ
हमने इक मंज़र बनाया *ख़ैरो-शर के दरमियाँ

बस्तियाँ "मख़्मूर" यूँ उजड़ीं कि सहरा हो गईं
फ़ासले बढ़ने लगे जब घर से घर के दरमियाँ

रमल की मुज़ाहिफ़ शक़्ल
फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन
2122 2122 2122 212

*ख़ैरो-शर : भलाई और बुराई,इख़्तिलाफ़ात-मतभेद

ग़ज़ल

ख़्वाब इन जागती आँखों को दिखाने वाला
कौन था वो मेरी नींदों को चुराने वाला

एक खुश्बू मुझे दीवाना बनाने वाली
एक झोंका वो मेरे होश उड़ाने वाला

अब इन *अत्राफ में आता ही नहीं वो मौसम
मेरे बाग़ों में जो था फूल खिलाने वाला

घर तो इस शह्र में जलते हुए देखे सबने
नज़र आया न कोई आग लगाने वाला

तोड़कर कर अपनी हदें ख़ुद से गुज़र जाऊंगा मैं
कोई आए तो मेरा साथ निभाने वाला

तुमने नफ़रत के अँधेरों में मुझे क़ैद किया
मैं उजाला था तुन्हें राह दिखाने वाला

बारिशें ग़म की रुकीं हैं न रुकेंगी मख़्मूर
इन दयारों से ये मौसम नहीं जाने वाला

*अत्राफ - दिशाएँ

रमल की मुज़ाहिफ़ सूरत
फ़ाइलातुन फ़'इ'लातुन फ़'इ'लातुन फ़’इ’लुन
2122 1122 1122 112

ग़ज़ल

इक बार मिलके फिर न कभी उम्र भर मिले
दो अजनबी थे हम जो सरे-राहगुज़र मिले

कुछ मंज़िलों के ख़्वाब थे कुछ रास्ते की धूप
निकले सफ़र पे हम तो यही हमसफ़र मिले

यूँ अपनी सरसरी सी मुलाक़ात ख़ुद से थी
जैसे किसी से कोई सरे-रहगुज़र मिले

इक शख़्स खो गया है जो रस्ते की भीड़ में
उसका पता चले तो कुछ अपनी ख़बर मिले

अपने सफ़र में यूँ तो अकेला हूँ मैं मगर
साया सा एक राह के हर मोड़ पर मिले

बरसों मे घर आजा आये तो बेगाना वार आज
हमसे ख़ुद अपने घर के ही दीवारो-दर मिले

मख़्मूर हम भी रक़्स करें मौजे-गुल के साथ
खुलकर जो हमसे मौसमे-दीवाना ग़र मिले

बहरे-मज़ारे( मुज़ाहिह शक़्ल)
मफ़ऊल फ़ाइलात मुफ़ाईल फ़ाइलुन
221 2121 1221 2 12

मीर के इस शे’र के साथ हम इस अज़ीम शायर खिराजे-अक़ीदत पेश करते हैं-

कहें क्या जो पूछे कोई हम से "मीर"
जहाँ में तुम आए थे, क्या कर चले

मख़्मूर साहब की आवाज़ हमेशा गूँजती रहेगी और ज़िंदा रहेगी-