Friday, May 14, 2010

तीसरी क़िस्त- कौन चला बनवास रे जोगी












मुफ़लिस साहब के इस खूबसूरत शे’र -

मीलों मृगतृष्णा के साये
कोसों फैली प्यास रे जोगी


के साथ तीसरी क़िस्त हाज़िर है जिसमें जोगेश्वर गर्ग जी की ग़ज़ल भी का़बिले-गौ़र है।साथ ही दूसरी क़िस्त में चंद्र रेखा ढडवाल के इस खूबसूरत शे’र के लिए उनको बधाई देना चाहता हूँ।

ताल सरोवर पनघट तेरे
अपनी तो बस प्यास रे जोगी

लीजिए ये अगली दो ग़ज़लें-

डी.के.'मुफ़लिस'

ओढ़ लिया संन्यास रे जोगी
फिर भी मन का दास रे जोगी

काश ! कभी पूरी हो पाए
जीवन की हर आस रे जोगी

पल-पल वक़्त के नाज़ उठाना
तुझ को क्या एहसास रे जोगी

सारा जग है भूल-भुलैयाँ
आया किसको रास रे जोगी

काम कभी आ ही जाता है
सपनों का विन्यास रे जोगी

बस्ती में हर आँख रूआँसी
कौन चला बनवास रे जोगी

लुक-छिप सब को नाच नचाये
कौन रचाए रास रे जोगी

मीलों मृगतृष्णा के साये
कोसों फैली प्यास रे जोगी

'मुफ़लिस' जब से दूर गया वो
ग़म आ बैठा पास रे जोगी

जोगेश्वर गर्ग

जो बन्दा बिंदास रे जोगी
दुनिया उसकी दास रे जोगी

इतना ध्यान हमेशा रखना
कौन बना क्यों ख़ास रे जोगी

ज्ञान समंदर उतना गहरा
जितनी जिसकी प्यास रे जोगी

भौंचक अवध समझ नहीं पाया
कौन चला वनवास रे जोगी

दुनियादारी ढोते ढोते
फूली अपनी श्वास रे जोगी

इसका- उसका, किस किस का तू
कर बैठा विश्वास रे जोगी

जिसको खुद पर खूब भरोसा
ईश्वर उसके पास रे जोगी

"जोगेश्वर" को भूल न जाना
इतनी सी अरदास रे जोगी

दूसरी क़िस्त- कौन चला बनवास रे जोगी












दूसरी क़िस्त में तीन शाइराओं की ग़ज़लें एक साथ मुलाहिज़ा कीजिए-

देवी नांगरानी






ओढे शब्द लिबास रे जोगी
आई ग़ज़ल है रास रे जोगी

धूप में पास रहे परछाईं
शाम को ले सन्यास रे जोगी

छल से जल में आया नज़र जो
चाँद लगा था पास रे जोगी

हिम्मत टूटी,दिल भी टूटा
टूटा जब विश्वास रे जोगी

सहरा के लब से जा पूछो
होती है क्या प्यास रे जोगी

जीस्त ने जब गेसू बिखराए
खोया होश‍ हवास रे जोगी

’देवी’ मत ज़ाया कर इनको
पूंजी इक इक स्वास रे जोगी

चंद्र रेखा ढडवाल(धर्मशाला हिमाचल प्रदेश)






जितने खिले मधुमास रे जोगी
उतने हुए बे-आस रे जोगी

ताल सरोवर पनघट तेरे
अपनी तो बस प्यास रे जोगी

मेघ बरसते थे,दिन बीते
अब तो बरसती प्यास रे जोगी

साथ प्रिया बन-बन डोले तो
काहे का बनवास रे जोगी

हमको अयोध्या में रहते भी
देख मिला बनवास रे जोगी

जिसने शिलाओं को तोड़ा हो
वो ही करे अब न्यास रे जोगी

खेत भी होंगे राजसिंहासन
आम जो होंगे ख़ास रे जोगी

आज इस गाँवों कल उस नगरी
क्यों बँधवाई आस रे जोगी

खेल रहा था खेल फ़क़त तू
हमने किया विश्वास रे जोगी

सारा जबीन

जब से गया बनवास रे जोगी
टूटी प्रीत की आस रे जोगी

सब सखियां ये पूछ रही हैं
कौन चला बनवास रे जोगी

धन दौलत नहीं मांगूं तुझसे
मांगूं तेरा पास रे जोगी

किस को समझूँ अब मैं दोषी
कुछ भी न आया रास रे जोगी

लौटेगा तू 'सारा' की है
आँखों में विश्वास रे जोगी