Thursday, November 4, 2010

सोच के दीप जला कर देखो-तरही की पहली क़िस्त

सबको दीपावली की शुभकामनाओं के साथ इस तरही मुशायरे का आगाज़ करते हैं। मिसरा-ए तरह " सोच के दीप जला कर देखो" पर ग़ज़लें मिलनी शुरू हो चुकी हैं और जो शायर रह गए हैं उनसे भी अनुरोध है कि जल्दी ग़ज़ल पूरी करें और भेजें।हमारे पहले शायर हैं- चंद्रभान भारद्वाज । इनके इस खूबसूरत शे’र-

स्याह अमावस पूनम होगी
सोच के दीप जला कर देखो


के साथ लीजिए इनकी ये तरही ग़ज़ल मुलाहिज़ा कीजिए-















चंद्रभान भारद्वाज

मन को पंख लगाकर देखो
पार गगन के जाकर देखो

खुद आकाश सिमट जायेगा
बाँहों को फैला कर देखो

इतनी सुंदर बन न सकेगी
दुनिया लाख बना कर देखो

धरती स्वर्ग नज़र आएगी
दीवाली पर आ कर देखो

स्याह अमावस पूनम होगी
सोच के दीप जला कर देखो

आँखों में फुलझड़ियाँ चमकें
प्यार किसी का पा कर देखो

अपना दर्द छिपाकर रखना
औरों का सहला कर देखो

नफ़रत की ऊँची दीवारें
प्यार से आज ढहा कर देखो

'भारद्वाज' रसिक ग़ज़लों का
ग़ज़लें आप सुना कर देखो


दिपावली की ढेर सारी शुभकामनाएँ !