Monday, November 8, 2010

तरही मुशायरे के दूसरे शायर
















दानिश भारती जी को पहचाना क्या?..ये हैं अपने मुफ़लिस जी जिन्होंने अपना अदबी नाम बदल लिया है।

मुशायरे के दूसरे शायर हैं जनाब दानिश भारती। इनका फोटो अभी खाली रखा है , कल तक इनकी तस्वीर लगाऊँगा । इस शायर को आप सब भली-भाँति जानते हैं और इस राज़ पर से कल पर्दा उठेगा। अभी मुलाहिज़ा कीजिए दानिश भारती की मिसरा-ए - तरह " सोच के दीप जला कर देखो" पर ये ग़ज़ल-

दानिश भारती

सोये लफ़्ज़ जगा कर देखो
मन की बात बता कर देखो

इश्क़ में रस्म निभा कर देखो
हुस्न के नाज़ उठा कर देखो

दिल का चैन गँवा कर देखो
याद उसे भी आ कर देखो

मन में प्रीत बसा कर देखो
अपने ख़्वाब सजा कर देखो

महके, रिश्तों की ये बगिया
प्यार के फूल खिला कर देखो

मुश्किल कोई काम नहीं है
ख़ुद से शर्त लगा कर देखो

सच्चा सुख मिलता है इसमें
काम किसी के आ कर देखो

मुहँ में राम, बगल में छुरियाँ
ऐसी सोच मिटा कर देखो

रौशन हो मन का हर कोना
सोच के दीप जला कर देखो

एक और एक बनेंगे ग्यारह
मिल-जुल हाथ बढ़ा कर देखो

दर्पण सब सच-सच कह देगा
'दानिश' आँख मिला कर देखो .