Thursday, November 11, 2010

मुशायरे की तीसरी क़िस्त

इस क़िस्त में आज की ग़ज़ल पर पहली बार शाइरा डॉ कविता'किरण'की ग़ज़ल पेश कर रहे हैं। मैं तहे-दिल से इनका इस मंच पर स्वागत करता हूँ। इनका एक शे’र मुलाहिज़ा कीजिए जो शाइरा के तेवर और कहन का एक खूबसूरत नमूना है-

कलम अपनी,जुबां अपनी, कहन अपनी ही रखती हूँ,
अंधेरों से नहीं डरती 'किरण' हूँ खुद चमकती हूँ,

इससे बेहतर और क्या परिचय हो सकता है। खैर ! लीजिए मिसरा-ए-तरह "सोच के दीप जला कर देखो " पर इनकी ये ग़ज़ल-














डॉ कविता'किरण'

चाहे आँख मिला कर देखो
चाहे आँख बचा कर देखो

लोग नहीं, रिश्ते रहते हैं
मेरे घर में आकर देखो

रोज़ देखते हो आईना
आज नकाब उठा कर देखो

समझ तुम्हारी रोशन होगी
सोच के दीप जला कर देखो

दर्द सुरीला हो जायेगा
दिल से इसको गा कर देखो

और अब पेश है देवी नांगरानी जी की ग़ज़ल । आप तो बहुत पहले से आज की ग़ज़ल से जुड़ी हुई हैं।













देवी नांगरानी

चोट खुशी में खा कर देखो
गम में जश्न मना कर देखो

बात जो करनी है पत्थर से
लब पे मौन सजा कर देखो

बचपन फिर से लौट आएगा
गीत खुशी के गा कर देखो

बिलख रहा है भूख से बच्चा
उसकी भूख मिटा कर देखो

जीवन भी इक जंग है देवी
हार में जीत मना कर देखो

इस बहर के बारे में कुछ चर्चा करना चाहता हूँ। ये बड़ी सीधी-सरल लगने वाली बहर भी बड़ी पेचीदा है। मसलन इस बहर में कुछ छूट है जो बड़े-बड़े शायरों ने ली भी है लेकिन कई शायर या अरूज़ी इसे वर्जित भी मानते हैं। हिंदी स्वभाव कि ये बहरें हमेशा चर्चा का विषय बनी रहती हैं। चार फ़ेलुन की ये बहर है तो मुतदारिक की मुज़ाहिफ़ शक्ल लेकिन ये किसी मात्रिक छंद से भी मेल खा सकती है सो ये बहस का मुद्दा बन जाता है। और ये देखिए जिस ग़ज़ल से मिसरा दिया उसमें देखिए-

किसी अकेली शाम की चुप में
गीत पुराने गा कर देखो

इस शे’र में मिसरा 12 से शुरू हुआ है।

जाग जाग कर उम्र कटी है
नींद के द्वार हिला कर देखो

और यहाँ पर 21 21 से शुरू हुआ। सो हम ये छूट ले सकते हैं लेकिन जो लय फ़ेलुन(22) से बनेगी वो यकी़नन बेहतर होगी। इसीलिए मैं सारे मिसरों और शब्दों के फ़ेलुन में होने की गुज़ारिश करता हूँ।