Saturday, November 13, 2010

चौथी क़िस्त - सोच के दीप जला कर देखो

इस चौथी क़िस्त में हम मिसरा-ए-तरह " सोच के दीप जला कर देखो" पर नवनीत शर्मा और तिलक राज कपूर की ग़ज़लें पेश कर रहे हैं। उम्मीद है कि ये ग़ज़लें आपको पसंद आऐंगी।










नवनीत शर्मा

खुद को शक्ल दिखा कर देखो
शख्स नया इक पा कर देखो

भरी रहेगी यूं ही दुनिया
आकर देखो, जाकर देखो

गा लेते हैं अच्छा सपने
दिल का साज बजा कर देखो

पीठ में सूरज की अंधियारा
उसके पीछे जा कर देखो

आ जाओगे खुद ही सुर में
अपना होना गा कर देखो

क्या तेरा , क्या मेरा प्यारे
ये मरघट में जाकर देखो

मिल जाएं तो उनसे कहना
मेरे घर भी आकर देखो

डूबा है जो ध्यान में कब से
उसके ध्यान में आकर देखो

दूजे के ज़ख्मों पर मरहम
ये राहत भी पा कर देखो

ज़ेहन में कितनी तारीकी है
सोच के दीप जला कर देखो

दूसरे शायर:










तिलक राज कपूर

चोट जिगर पर खाकर देखो
फिर दिल को समझा कर देखो

जाने क्या-क्या सीखोगे तुम
इक बच्चा बहला कर देखो

जिसकी कोई नहीं सुनता है
उसकी पीड़ा गा कर देखो।

कुछ देने का वादा है तो
बदरी जैसे छा कर देखो

जिसको ठुकराते आये हो
उसको भी अपना कर देखो

लड़ना है काली रातों से
सोच के दीप जला कर देखो

खून पसीने की, मेहनत की
रोटी इक दिन खाकर देखो

दर्द लहू का क्या होता है
अपना खून बहा कर देखो

चिंगारी की फि़त्रत है तो
घर में आग लगाकर देखो

अगर दबाने की इच्छा है
चाहत एक दबा कर देखो

‘राही’ नाज़ुक दिल है इसको
ऐसे मत इठला कर देखो