Tuesday, March 13, 2012

डा. अहसान आज़मी की एक ग़ज़ल




















ग़ज़लनशेमन तो नशेमन है चमन तक छोड़ देते हैं
हम अपने पेट की खातिर वतन तक छोड़ देते हैं

खु़दाया क्या इबादत के लिए इतना नहीं काफ़ी
बुलाता है हमें जब तू बदन तक छोड़ देते हैं

अँधेरों से अगर आवाज़ देता है कोई बेकस
हम अपने सहन की उजली किरन तक छोड़ देते हैं

मुहब्बत से अगर दुशमन भी हमसे मांग ले पानी
दो-इक चुल्लू नहीं गंग-ओ-जमन तक छोड़ देते हैं

सुना "अहसान" कुछ बच्चे लिबासों को तरसते हैं
अगर ये बात है तो लो कफ़न तक छोड़ देते हैं

डा. अहसान आज़मी