Saturday, November 21, 2009

तरही की अंतिम क़िस्त













मिसरा-ए-तरह "तुझे ऐ ज़िंदगी , हम दूर से पहचान लेते हैं" पर अंतिम दो ग़ज़लें

कुमार ज़ाहिद

वो जो दिल ही नहीं लेते हैं अक्सर जान लेते हैं
उन्हें हम बारहा दिल से दिलो-जां मान लेते हैं

ये गुल, गुलशन,ये शहरों की हंसीं रंगीनियां सारी
ये चादर नींद में ख्वाबों की है हम तान लेते हैं

कभी खुलकर नहीं रोती,कभी शिकवा नहीं करती
तुझे ऐ ज़िन्दगी हम दूर से पहचान लेते हैं

किसे मंज़िल नहीं मिलती, किसे रस्ता नहीं मिलता
सुना है मिलता है सब कुछ अगर हम ठान लेते हैं

सतपाल ख़याल

हम आँखें देखकर हर शख़्स को पहचान लेते हैं
बिना जाने ही अकसर हम बहुत कुछ जान लेते हैं

वही उतरा हुआ चहरा, वही कुछ सोचती आँखें
तुझ ऐ ज़िंदगी हम दूर से पहचान लेते हैं

ज़रा सा सर उठाता है खुशी का जब कोई अंकुर
घने बरगद ग़मों के इसपे सीना तान लेते हैं

बज़ुर्गों की किसी भी बात का गुस्सा नहीं करते
कि हम हर हाल में अपनी ही ग़लती मान लेते हैं

ज़रूरी तो नहीं हर काम का हासिल हो दुनिया में
तेरी गलियों की अक़सर खाक भी हम छान लेते हैं

ये जलवे हुस्न के का़तिल ख़याल इनसे बचे रहना
ये दिल लेते हैं पहले और फिर ये जान लेते हैं