Saturday, November 20, 2010

सोच के दीप जला कर देखो- छटी क़िस्त

इस ब्लागिंग के ज़रिये एक नया परिवार बन गया है-ग़ज़ल परिवार। जिनके मुखिया जैसे थे महावीर जी। उनका अचनाक चले जाना बहुत दुखद है। हम सब अब एक अनोखे से बंधन में बंध गए हैं। शब्दों और शे’रों का रिश्ता सा बन गया है आप सब से। है तो ये सब एक सपना सा ही लेकिन हक़ीकत से कम नहीं। खैर! ये तो रंग-मंच है। जब अपना क़िरदार ख़त्म हुआ तो परदे के पीछे चले जाना हैं। लेकिन खेल चलता रहता है , यही सब से बड़ी माया है। महावीर जी को आज की ग़ज़ल की तरफ से विनम्र श्रदाँजलि। तरही मुशायरे के क्रम को आगे बढ़ाते हैं।

मुशायरे के अगले शायर और शाइरा हिमाचल प्रदेश से हैं। मिसरा-ए-तरह" सोच के दीप जला कर देखो" पर इनकी ग़ज़लें मुलाहिज़ा कीजिए।











चंद्र रेखा ढडवाल

सूनी आँख सजा कर देखो
सपना एक जगा कर देखो

यह भी एक दुआ, पिंजरे से
पाखी एक उड़ा कर देखो

तपती रेत पे सहरा की तुम
दरिया एक बहा कर देखो

उसको भी हँसना आता है
मीठे बोल सुना कर देखो

वो भी जी का हाल कहेगा
अपना हाल सुना कर देखो

राह सिमट जाएगी पल में
बस इक पाँव बढ़ाकर देखो

अपना चाहा बहुत दिखाया
मेरा ख़्वाब दिखाकर देखो

धू-धू जलती इस बस्ती में
अपना आप बचाकर देखो

वक़्त बहुत धुँधला-धुँधला है
सोच के दीप जलाकर देखो

जान तुम्हारी के सौ सदक़े
ग़ैर की जान बचा कर देखो

जोग निभाना तो आसाँ है
रिश्ता एक निभा कर देखो










एम.बी.शर्मा मधुर

सोये ख़्वाब जगा कर देखो
दुनिया और बना कर देखो

हो जाएँगी सदियाँ रौशन
सोच के दीप जला कर देखो

रूठो यार से लेकिन पहले
मन की बात बता कर देखो

मिल जाएगा कोई तो अपना
सबसे हाथ मिलाकर देखो

शर्म-हया का नूर है अपना
यह तुम शम्अ बुझाकर देखो

सर टकराने वाले लाखों
तुम दीवार बनाकर देखो

सबका है महबूब तसव्वुर
पंख ‘मधुर’ ये लगाकर देखो