Monday, December 6, 2010

सत्यप्रकाश शर्मा की एक ग़ज़ल

सत्यप्रकाश शर्मा

तस्वीर का रुख एक नहीं दूसरा भी है
खैरात जो देता है वही लूटता भी है

ईमान को अब लेके किधर जाइयेगा आप
बेकार है ये चीज कोई पूछता भी है?

बाज़ार चले आये वफ़ा भी, ख़ुलूस भी
अब घर में बचा क्या है कोई सोचता भी है

वैसे तो ज़माने के बहुत तीर खाये हैं
पर इनमें कोई तीर है जो फूल सा भी है

इस दिल ने भी फ़ितरत किसी बच्चे सी पाई है
पहले जिसे खो दे उसे फिर ढूँढता भी है

हज़ज की मुज़ाहिफ़ शक्ल
मफ़ऊल मफ़ाईल मुफ़ाईल मफ़ाईल
22 1 1221 1221 122(1)


शायर का पता-
२५४ नवशील धाम
कल्यान पुर-बिठुर मार्ग, कानपुर-१७
मोबाइल-07607435335