Thursday, April 10, 2008

दीपक गुप्ता जी का परिचय और ग़ज़ल

नाम : दीपक गुप्ता
उम्र: 36 साल

शिक्षा: बी.ए.(1994)

निवास: फ़रीदाबाद (हरियाणा)

पहली किताब 1994 में: सीपियों में बंद मोती.

बेबसाईट : http://www.kavideepakgupta.com/

दीपक जी एक अच्छे हास्य कवि भी हैं.



ग़ज़ल

सबसे अपनापन रखता है
वो इक ऐसा फ़न रखता है

पतझर में जीता है लेकिन
आँखों में सावन रखता है

वो खुद से क्यों डर जाता है

जब आगे दरपन रखता है

वक़्त सभी कुछ सुलझा देगा
क्यों मन में उलझन रखता है

मुझसे झूठे वादे करके
क्यों तू मेरा मन रखता है

दीपक गुप्ता .... 9811153282 ,
बज़न: आठ गुरु.



12 comments:

Amit Ranjan said...

सबसे अपनापन रखता है
वो इक ऐसा फ़न रखता है

Kya baat hai!! Saadgi aur masoomiyat odhe behad khoobsurat ghazal hai! Chhal aur kapat ke is daur mein ek nirmal kavi mann ka safal chitran hai!!
Tahe dil se daad haazir hai!

Main Satpal ji ko bhi Urdu aur Hindi ko jodne ke is laajwaab aur prerak prayaas par hardik badhaii detaa hoon!!

सुभाष नीरव said...

दीपक गुप्ता की ग़ज़ल ने बेहद प्रभावित किया। बहुत खूब कहा है ! दीपक जी की और ग़ज़लें दें।

सुभाष नीरव
www.setusahitya.blogspot.com
www.vaatika.blogspot.com
www.sahityasrijan.blogspot.com
www.gavaksh.blogspot.com

Utpal said...

सबसे अपनापन रखता है
वो इक ऐसा फ़न रखता है

पतझर में जीता है लेकिन
आँखों में सावन रखता है

agfreen gupta ji afreen ..... kya khoob kaha apnain .... Meharba .....

yeh chand choti panktiyaan kavya ki har dhara ko samahit karti hui jeejivisha ki abhootpoorva chitran karti hai ...

Utpal said...

सबसे अपनापन रखता है
वो इक ऐसा फ़न रखता है

पतझर में जीता है लेकिन
आँखों में सावन रखता है

agfreen gupta ji afreen ..... kya khoob kaha apnain .... Meharba .....

yeh chand choti panktiyaan kavya ki har dhara ko samahit karti hui jeejivisha ki abhootpoorva chitran karti hai ...

maitrayee said...

"patjhar mey jitaa hai lekin aankhon mey saawan rakhtaa hai"
wah dipak ji kyaa khub kahi in dono panktion mey hi shaayar apnaa haal e dil bayaan kar gayaa.bahot khub. aapko meri hardik shubhkaamnaaen. or gazal bhejte rahie. Satpaal ji ke lie hum or kyaa kahen jo kaam wo kar rahan hain iske lie hum sabhi kavi or gazalkaar unke shukraguzaar hin. shubhkaamnaaon sahit Maitreyee.

mahen said...
This comment has been removed by the author.
mahen said...

सबसे अपनापन रखता है
वो इक ऐसा फ़न रखता है

misra saani me wo ik aisa fan rakhta hai thoda sa khatakta hai.. aakhir kaisa fun rakhta hai.. yani fasahat ki kami hai..

agar baat yun kahii jaati like..

sabse apna pan rakhta hai
jeene ka wo fan rakta hai..

baqi aur bhi tareeqe se baat kahii ja sakti hai..


पतझर में जीता है लेकिन
आँखों में सावन रखता है

achha sher hua hai.. lekin isme ek aib bhi hai is sher me subject nahii hai.. ( kaun? aap main ya wo )

वो खुद से क्यों डर जाता है
जब आगे दरपन रखता है

वक़्त सभी कुछ सुलझा देगा
क्यों मन में उलझन रखता है

मुझसे झूठे वादे करके
क्यों तू मेरा मन रखता है

baqi k teenoN sher sadharan hain..

Regards
Mahen..

maitrayee said...

Mahen ji
mere vichaar se koi bhi kavitaa ho yan sher ho yaan gazal jismey kisi ek vyakti ki visheh pahachaan nehi honi chaahie har paathak ko aisaa lage ki kavi ne us{paathak} ki zindgi ko kaise jaan liyaa. jab ki ye keval kavi ko hi maalum hogaa ki we kiske haal e dil ko bayaan kar rahaa hai.isliye MAIN,AAP,KAUN jaisaa sawaal aanaa hi nehi chaahie.

Kavi Kulwant said...

Bahut khoob..

pallavi trivedi said...

सबसे अपनापन रखता है
वो इक ऐसा फ़न रखता है
वाह....बहुत सादगी है बोलों में! एक अच्छी ग़ज़ल! आनंद आया पढ़कर!

सतपाल said...
This comment has been removed by the author.
ѕнαιя ∂я. ѕαηנαу ∂αηι said...

सभी शे'र ख़ूबसूरत और बेहद नाज़ुक। दीपक गुप्ता जी को बधाई। जाने क्यूं मुझे मतले की नात या मतले की फ़िलासफ़ी सुनी सुनी लग रही है।