Wednesday, April 29, 2009

श्री मनोहर शर्मा ‘साग़र’ पालमपुरी को श्रदाँजलि
















सर्द हो जाएगी यादों की चिता मेरे बाद
कौन दोहराएगा रूदाद—ए—वफ़ा मेरे बाद
आपके तर्ज़—ए—तग़ाफ़ुल की ये हद भी होगी
आप मेरे लिए माँगेंगे दुआ मेरे बाद


30 अप्रैल, श्री मनोहर शर्मा ‘साग़र’ पालमपुरी जी की पुण्य तिथी है. उनकी ग़ज़लों का प्रकाशन हमारी तरफ़ से उस शायर को श्रदाँजलि है.शायर अपने शब्दों मे हमेशा ज़िंदा रहता है और सागर साहब की शायरी से हमें भी यही आभास होता है कि वो आज भी हमारे बीच में है.सागर साहेब 25 जनवरी 1929 को गाँव झुनमान सिंह , तहसील शकरगढ़ (अब पाकिस्तान)मे पैदा हुए थे और 30 अप्रैल, 1996 को इस फ़ानी दुनिया से विदा हो गए. लेकिन उनकी शायरी आज भी हमारे साथ है और साग़र साहेब द्वारा जलाई हुई शम्मा आज भी जल रही है, उस लौ को उनके सपुत्र श्री द्विजेंद्र द्विज जी और नवनीत जी ने आज भी रौशन कर रखा है.साग़र साहेब की कुछ चुनिंदा ग़ज़लों को हम प्रकाशित कर रहे हैं:







ग़ज़ल:

सर्द हो जाएगी यादों की चिता मेरे बाद
कौन दोहराएगा रूदाद—ए—वफ़ा मेरे बाद

बर्ग—ओ—अशजार से अठखेलियाँ जो करती है
ख़ाक उड़ाएगी वो गुलशन की हवा मेरे बाद

संग—ए—मरमर के मुजसमों को सराहेगा कौन
हुस्न हो जाएगा मुह्ताज—ए—अदा मेरे बाद

प्यास तख़लीक़ के सहरा की बुझेगी कैसे
किस पे बरसेगी तख़ैयुल की घटा मेरे बाद !

मेरे क़ातिल से कोई इतना यक़ीं तो ले ले
क्या बदल जाएगा अंदाज़—ए—जफ़ा मेरे बाद ?

मेरी आवाज़ को कमज़ोर समझने वालो !
यही बन जाएगी गुंबद की सदा मेरे बाद

आपके तर्ज़—ए—तग़ाफ़ुल की ये हद भी होगी
आप मेरे लिए माँगेंगे दुआ मेरे बाद

ग़ालिब—ओ—मीर की धरती से उगी है ये ग़ज़ल
गुनगुनाएगी इसे बाद—ए—सबा मेरे बाद

न सुने बात मेरी आज ज़माना ‘साग़र’!
याद आएगा उसे मेरा कहा मेरे बाद

तख़लीक़—सृजन; तख़ैयुल—कल्पना; तर्ज़—ए—तग़ाफ़ुल=उपेक्षा का ढंग








ग़ज़ल:

दिल के तपते सहरा में यूँ तेरी याद का फूल खिला
जैसे मरने वाले को हो जीवन का वरदान मिला

जिसके प्यार का अमृत पी कर सोचा था हो जायें अमर
जाने कहाँ गया वो ज़ालिम तन्हाई का ज़हर पिला

एक ज़रा —सी बात पे ही वो रग—रग को पहचान गई
दुनिया का दस्तूर यही है यारो! किसी से कैसा गिला

अरमानों के शीशमहल में ख़ामोशी , रुस्वाई थी
एक झलक पाकर हमदम की फिर से मन का तार हिला

सपने बुनते—बुनते कैसे बीत गये दिन बचपन के
ऐ मेरे ग़मख़्वार ! न मुझको फिर से वो दिन याद दिला

इन्सानों के जमघट में वो ढूँढ रहा है ‘साग़र’ को
अभी गया जो दिल के लहू से ग़ज़लों के कुछ फूल खिला








ग़ज़ल:

दिल में यादों का धुआँ है यारो !
आग की ज़द में मकाँ है यारो !

हासिल—ए—ज़ीस्त कहाँ है यारो !
ग़म तो इक कोह—ए—गिराँ है यारो !

मैं हूँ इक वो बुत—ए—मरमर जिसके
मुँह में पत्थर की ज़बाँ है यारो !

नूर अफ़रोज़ उजालों के लिए
रौशनी ढूँढो कहाँ है यारो !

टिमटिमाते हुए तारे हैं गवाह
रात भीगी ही कहाँ है यारो !

इस पे होता है बहारों का गुमाँ
कहीं देखी है ये खिज़ाँ है यारो !

हम बहे जाते हैं तिनकों की तरह
ज़िन्दगी मील—ए—रवाँ है यारो

ढल गई अपनी जवानी हर चंद
दर्द—ए—उल्फ़त तो जवाँ है यारो

नीम—जाँ जिसने किया ‘साग़र’ को
एक फूलों की कमाँ है यारो!








ग़ज़ल:

परदेस चला जाये जो दिलबर तो ग़ज़ल कहिये
और ज़ेह्न हो यादों से मुअत्तर तो ग़ज़ल कहिये

कब जाने सिमट जाये वो जो साया है बेग़ाना
जब अपना ही साया हो बराबर तो ग़ज़ल कहिये

दिल ही में न हो दर्द तो क्या ख़ाक ग़ज़ल होगी
आँखों में हो अश्कों का समंदर तो ग़ज़ल कजिये

हम जिस को भुलाने के लिये नींद में खो जायें
आये वही ख़्वाबों में जो अक्सर तो ग़ज़ल कहिये

फ़ुर्क़त के अँधेरों से निकलने के लिये दिल का
हर गोशा हो अश्कों से मुनव्वर तो ग़ज़ल कहिये

ओझल जो नज़र से रहे ताउम्र वही हमदम
जब सामने आये दम—ए—आख़िर तो ग़ज़ल कहिये

अपना जिसे समझे थे उस यार की बातों से
जब चोट अचानक लगे दिल पर तो ग़ज़ल कहिये

क्या गीत जनम लेंगे झिलमिल से सितारों की
ख़ुद चाँद उतर आये ज़मीं पर तो ग़ज़ल कहिये

अब तक के सफ़र में तो फ़क़त धूप ही थी ‘साग़र’!
साया कहीं मिल जाये जो पल भर तो ग़ज़ल कहिये








ग़ज़ल:

दरअस्ल सबसे आगे जो दंगाइयों में था
तफ़्तीश जब हुई तो तमाशाइयों में था

हमला हुआ था जिनपे वही हथकड़ी में थे
मुजरिम तो हाक़िमों के शनासाइयों में था

उस दिन किसी अमीर के घर में था कोई जश्न
बेरब्त एक शोर—सा शहनाइयों में था

हैराँ हूँ मेरे क़त्ल की साज़िश में था शरीक़
वो शख़्स जो कभी मेरे शैदाइयों में था

शोहरत की इन्तिहा में भी आया न था कभी
‘साग़र’!वो लुत्फ़ जो मेरी रुस्वाइयों में था








ग़ज़ल:

कितनी हसीं है शाम सुनाओ कोई ग़ज़ल
गर्दिश में आये जाम सुनाओ कोई ग़ज़ल

लौट आयें जिससे प्यार की ख़ुश्बू लिए हुए
रंगीन सुबह—ओ—शाम सुनाओ कोई ग़ज़ल

घूँघट उठा के फूलों का फिर प्यार से हमें
ये रुत करे सलाम सुनाओ कोई ग़ज़ल

जो कम करे फ़िराक़ज़दा साअतों का बोझ
ले ग़म से इन्तक़ाम सुनाओ कोई ग़ज़ल

रुत कोई भी हो इतना है ग़म अहल—ए—सुख़न का
शे`र—ओ—सुख़न है काम सुनाओ कोई ग़ज़ल

जिसका इक एक शे`र हो ख़ु्द ही इलाज—ए—ग़म
जो ग़म करे तमाम सुनाओ कोई ग़ज़ल

जंगल हैं बेख़ुदी के जो शहर—ए—अना से दूर
कर लें वहीं क़याम सुनाओ कोई ग़ज़ल

होंठों पे तन्हा चाँद के आया है प्यार से
‘साग़र’! तुम्हारा नाम सुनाओ कोई ग़ज़ल

साअतों=क्षणों








ग़ज़ल:

एक वो तेरी याद का लम्हा झोंका था पुरवाई का
टूट के नयनों से बरसा है सावन तेरी जुदाई का

तट ही से जो देख रहा है लहरों का उठना गिरना
उसको अन्दाज़ा ही क्या है सागर की गहराई का

कभी—आस की धू्प सुनहरी, मायूसी की धुंध कभी
लगता है जीवन हो जैसे ख़्वाब किसी सौदाई का

अंगारों के शहर में आकर मेरी बेहिस आँखों को
होता है एहसास कहाँ अब फूलों की राअनाई का

सुबहें निकलीं,शामें गुज़रीं, कितनी रातें बीत गईं
‘साग़र’! फिर भी चाट रहा है ज़ह्र हमें तन्हाई का

10 comments:

मोहिन्दर कुमार said...

दिलकश गजलों के इस गुलदस्ते के लिये आपका आभार सतपाल जी.
श्री मनोहर शर्मा जी को उनकी पुण्यतिथी पर श्रद्धांजली.

dheer said...

मैं हूँ इक वो बुत—ए—मरमर जिसके
मुँह में पत्थर की ज़बाँ है यारो !

waah! waah!
kahte haiN shaairee tab hee kee jaaye jab aapke paas kuchh kahne ko ho. tarbiyat viraasat ke taur par paayee jaa saktee hai magar umdah soch uper waalaa hee bakshtaa hai. Sagar saHeb ko woh zarf HaaSil thaa, unke sher is baat kee taakeed karte haiN.
aabhaar

Yogesh said...

sabhii gazalein achhi hain..
Bas, kuchh zyada urdu ki wajeh se lutf nahi le paaya...

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र said...

श्रध्दा सुमन अर्पित है.

Mumukshh Ki Rachanain said...

सतपाल जी,

श्री मनोहर शर्मा जी की गजलों से रू ब रू करवाने के लिए आपका आभार.

श्री मनोहर शर्मा जी को उनकी पुण्यतिथी पर हमारी हार्दिक श्रद्धांजली.

चन्द्र मोहन गुप्त

Amitosh Kumar Mishra said...

सतपाल जी .....बहुत-बहुत धन्यवाद् |

"सागर" जी की गजलो से रूबरू कराने के लिए धन्यवाद् |

श्री शर्मा जी को उनकी पुण्यतिथी पर श्रद्धांजली.



शर्माजी "सागर "..........जब अपने पुत्र अर्थात द्विज जी की सफलता ..एवं ग़ज़ल के प्रति समर्पण देखते होंगे तो उन्हें निः संदेह अत्यंत गर्व होता होगा |

योगेन्द्र मौदगिल said...

श्रद्धेय सागर साहब को पढ़ना सदैव ही एक अनुभव रहा है. उनकी यादों को नमन. इस बेहतरीन प्रस्तुति के लिये आपका आभार.

manu said...

सागेर साहिब को पढ़ा और जाना के द्विज भाई aaj की शायरी की दुनिया में अद्वितीय क्यों हैं ,,,,
सागर साहिब को पढ़ना बेहद सुखद अनुभव रहा

B.K.Agarwal said...

Excellent gazhals.He was a great shayar. These gazals can be placed in the category of all time greats.

navneet sharma said...

आज एक और बरस बीत गया उसके बगैर
जिसके होते हुए होते थे ज़माने मेरे
अब शेव करने के बाद गिलास धो देता हूं...नहाने के बाद नाभी पर तेल भी लगा लेता हूं...घर वक्‍त पे जाता हूं...काफी सुधरा हूं...खाना खाने से पहले नहा लेता हूं...पिताजी। आप होते तो देखते...।