Friday, June 26, 2009

सुरेन्द्र चतुर्वेदी की ग़ज़लें और परिचय











1955 मे अजमेर(राजस्थान) में जन्मे सुरेन्द्र चतुर्वेदी के अब तक सात ग़ज़ल संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं और वो आजकल मंबई फिल्मों मे पटकथा लेखन से जुड़े हैं.इसके इलावा भी इनकी छ: और पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं.आज की ग़ज़ल के पाठकों के लिए इनकी एक ही बहर (बहरे-रमल) में चार ग़ज़लें.

एक








रात को तनहाइयों के साथ घर जाता हूँ मैं
अपने ही अहसास की आहट से डर जाता हूँ मैं

रूह मे तबदील हो जाता है मेरा ये बदन
जब किसी की याद में हद से गुज़र जाता हूँ मैं

मैं लहू से रेत पर लिक्खा हुआ इक नाम हूँ
ग़र कोई महसूस कर ले तो उभर जाता हूँ मैं

मैं हूँ शिद्दत खुशबुओं की प्यार से महकी हुई
छू ले कोई तो हवाओं मे बिखर जाता हूँ मैं

एक सूफ़ी की ग़ज़ल का शे’र हूँ मैं दोस्तो
बेखुदी के रास्ते दिल मे उतर जाता हूँ मैं

बंद आंखों से किया करता हूँ मैं लाखों सफ़र
लोग अक़्सर सोचते हैं कि किधर जाता हूँ मैं

अपने हिस्से की जिन्हें मैं नींद आया सौंपकर
ग़म है अक़्सर उनके ख्वाबों में भी मर जाता हूँ मैं

दर्द की दरगाह मे करता जियारत जब कभी
करके अशकों से वजू ख़ुद मे बिखर जाता हूँ मैं

दो









आसमां मुझसे मिला तो वो ज़रा सा हो गया
था समंदर मैं मगर बरसा तो प्यासा हो गया

ज़िंदगी ने बंद मुट्ठी इस तरह से खोल दी
ग़म की सारी वारदातों का खुलासा हो गया

नींद मे तुमने मुझे इस तरह आकर छू लिया
इक पुराना ख्वाब था लेकिन नया सा हो गया

जिस घड़ी महसूस तुझको दिल मेरा करने लगा
उम्र मे शामिल मेरे जैसे नशा सा हो गया

अजनबी अहसास मुझको दर्द के दर पर मिला
साथ जब रोये तो वो मुझसे शनासा हो गया

उसके ग़म अलफ़ाज़ की उंगली पकड़कर जब चले
दर्द का ग़ज़लों मे मेरी तर्जुमा सा हो गया

तीन







मत चिरागों को हवा दो बस्तियाँ जल जायेंगी
ये हवन वो है कि जिसमें उँगलियां जल जायेंगी

मानता हूँ आग पानी में लगा सकते हैं आप
पर मगरमच्छों के संग में मछलियाँ जल जायेंगी

रात भर सोया नहीं गुलशन यही बस सोचकर
वो जला तो साथ उसके तितलियाँ जल जायेगीं

जानता हूँ बाद मरने के मुझे फूँकेंगे लोग
मैं मगर ज़िंदा रहूँगा लकड़ियाँ जल जायेंगी

उसके बस्ते में रखी जब मैंने मज़हब की किताब
वो ये बोला अब्बा मेरी कापियाँ जल जायेंगी

आग बाबर की लगाओ या लगाओ राम की
लग गई तो आयतें चौपाइयाँ जल जायेंगी

चार









ये नहीं कि नाव की ही ज़िन्दगी खतरे में है
दौर है ऐसा कि अब पूरी नदी खतरे में है

बच गए मंज़र सुहाने फर्क क्या पड़ जाएगा
जबकि यारों आँख की ही रोशनी खतरे में है

अब तो समझो कौरवों की चाल नादां पाँडवों
होश में आओ तुम्हारी द्रोपदी खतरे में है

अपने बच्चों को दिखाओगे कहाँ अगली सदी
जी रहे हो जिसमें तुम वो ही सदी खतरे में है

मंदिरों और मस्जिदों को घर के भीतर लो बना
वरना खतरे में अज़ाने आरती खतरे में है

ना तो नानक ना ही ईसा, राम ना रहमान ही
पूजता है जो इन्हें वो आदमी ख़तरे में है

18 comments:

gargi gupta said...

itni achchhi gazl padwane ke liye aap ka bhu bhut dhanyabad

नीरज गोस्वामी said...

रूह मे तबदील हो जाता है मेरा ये बदन
जब किसी की याद में हद से गुज़र जाता हूँ मैं

मैं हूँ शिद्दत खुशबुओं की प्यार से महकी हुई
छू ले कोई तो हवाओं मे बिखर जाता हूँ मैं
******
जिस घड़ी महसूस तुझको दिल मेरा करने लगा
उम्र मे शामिल मेरे जैसे नशा सा हो गया

उसके ग़म अलफ़ाज़ की उंगली पकड़कर जब चले
दर्द का ग़ज़लों मे मेरी तर्जुमा सा हो गया
******
रात भर सोया नहीं गुलशन यही बस सोचकर
वो जला तो साथ उसके तितलियाँ जल जायेगीं

आग बाबर की लगाओ या लगाओ राम की
लग गई तो आयतें चौपाइयाँ जल जायेंगी
******
मंदिरों और मस्जिदों को घर के भीतर लो बना
वरना खतरे में अज़ाने आरती खतरे में है

ना तो नानक ना ही ईसा, राम ना रहमान ही
पूजता है जो इन्हें वो आदमी ख़तरे में है
******
जो इंसान इतने खूबसूरत शेर कहता हो उसके लिए क्या कहा जा सकता है सिवा "सुभान अल्लाह" के. सुरेन्द्र साहेब की लाजवाब शायरी से रूबरू करवाने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया सतपाल जी. आप ये नेक काम हमेशा ऐसे ही करते रहें...आमीन

नीरज

दिगम्बर नासवा said...

बंद आंखों से किया करता हूँ मैं लाखों सफ़र
लोग अक़्सर सोचते हैं कि किधर जाता हूँ मैं

जानता हूँ बाद मरने के मुझे फूँकेंगे लोग
मैं मगर ज़िंदा रहूँगा लकड़ियाँ जल जायेंगी

बच गए मंज़र सुहाने फर्क क्या पड़ जाएगा
जबकि यारों आँख की ही रोशनी खतरे में है

दिल को choone waale sher जो likhta है............. वो खुद कितना pyaara insaan होगा ..... bahoot ही lajawaab एक से badh कर एक sher hain ye sab ........... शुक्रिया satpaal जी

"अर्श" said...

मैं लहू से रेत पर लिक्खा हुआ इक नाम हूँ
ग़र कोई महसूस कर ले तो उभर जाता हूँ मैं

अपने हिस्से की जिन्हें मैं नींद आया सौंपकर
ग़म है अक़्सर उनके ख्वाबों में भी मर जाता हूँ मैं

************
ज़िंदगी ने बंद मुट्ठी इस तरह से खोल दी
ग़म की सारी वारदातों का खुलासा हो गया

अजनबी अहसास मुझको दर्द के दर पर मिला
साथ जब रोये तो वो मुझसे शनासा हो गया

*************
मानता हूँ आग पानी में लगा सकते हैं आप
पर मगरमच्छों के संग में मछलियाँ जल जायेंगी


उसके बस्ते में रखी जब मैंने मज़हब की किताब
वो ये बोला अब्बा मेरी कापियाँ जल जायेंगी

***********
अपने बच्चों को दिखाओगे कहाँ अगली सदी
जी रहे हो जिसमें तुम वो ही सदी खतरे में है

ना तो नानक ना ही ईसा, राम ना रहमान ही
पूजता है जो इन्हें वो आदमी ख़तरे में है

********

सतपाल जी सुरेन्द्र साहिब से और उनकी ग़ज़लों से परिचय करा कर तो आपने अहसान ही किया है हम पे ... चरों ही गज़लें बहरे रमल की अपने आप में कमाल करती हुई जिसमे तज़रबा ,साफ़ साफ़ दिख रहा है... बहोत बहोत बधाई साहिब आपको...


अर्श

sanjaygrover said...

उसके बस्ते में रखी जब मैंने मज़हब की किताब
वो ये बोला अब्बा मेरी कापियाँ जल जायेंगी

ना तो नानक ना ही ईसा, राम ना रहमान ही
पूजता है जो इन्हें वो आदमी ख़तरे में है

GHAZAB !

MUFLIS said...

मैं लहू से रेत पर लिक्खा हुआ इक नाम हूँ
ग़र कोई महसूस कर ले तो उभर जाता हूँ मैं

बंद आंखों से किया करता हूँ मैं लाखों सफ़र
लोग अक़्सर सोचते हैं कि किधर जाता हूँ मैं

ज़िंदगी ने बंद मुट्ठी इस तरह से खोल दी
ग़म की सारी वारदातों का खुलासा हो गया

उसके बस्ते में रखी जब मैंने मज़हब की किताब
वो ये बोला अब्बा मेरी कापियाँ जल जायेंगी

ना तो नानक ना ही ईसा, राम ना रहमान ही
पूजता है जो इन्हें वो आदमी ख़तरे में है

इस क़दर खूबसूरत , नायाब , और सच्चे शेर कहने वाले मुहतरम शायर को
मेरा पुर-खुलूस आदाब ....
अदब-नवाज़ दोस्तों पर ये एहसान रहा आपका ..

और सतपाल 'ख़याल' जी का
बहुत-बहुत शुक्रिया .

---मुफलिस---

SWAPN said...

behatareen/lajawaab gazlon se parichay ke liye aabhaar.

योगेन्द्र मौदगिल said...

सुरेन्द्र भाई बेहतरीन ग़ज़लकार हैं.... उन्हें पढ़ना बहुत ही सुखद है.... आपकी इस प्रस्तुति को प्रणाम...


कलमदंश में मैंने उन्हें कईं बार छापा है..

venus kesari said...

सतपाल भाई
आज तो आपने लाजवाब कर दिया
कुछ कहने सुनने को नहीं बचा है
कृपया सुरेन्द्र जी की प्रकाशित गजल संग्रह के बारे में बताने का कष्ट करे
व प्रकाशन व प्रकाशक का पता बताने की कृपा करे
हो सके तो सुरेन्द्र जी का मो. नंबर दीजिये वक्तिगत तौर पर बधाई देना चाहता हूँ
venuskesari@gmail.com
वीनस केसरी

Devi Nangrani said...

रात को तनहाइयों के साथ घर जाता हूँ मैं
अपने ही अहसास की आहट से डर जाता हूँ मैं

Bepanah saleekedaar guftagoo kihud se dil ko choo gayi, Har ek sher apne aap mein ek ahsaas liye hue haaaaai. Shri surendraji ki rachnaon ka paath karna hamari khushnaseebi hai.

Devi Nangrani

kalaam-e-sajal said...

बेहतरीन गज़लें.

sandhyagupta said...

Surendra ji ki gazlon se parichay karane ke liye dhanywaad.

PGDCA University of Allahabad said...

अपने हिस्से की जिन्हें मैं नींद आया सौंपकर
ग़म है अक़्सर उनके ख्वाबों में भी मर जाता हूँ मैं

bahut khoob sir ji.......
bas aisa lagta hai ki padhate rahen. padhte rahe.... aur bas padhate hi rahen.........

manu said...

शायर की तारीफ़ के लिए शब्द ही नहीं हैं...
सतपाल जी की तारीफ जरूर,,
बल्कि अहसान है हम पर जो ये एक से एक दमदार शे'र पढने को मिले,,
आँखें खुली की खुली रह गयीं,,

श्रद्धा जैन said...

Satpal ji aise nayab shayar ki gazalen padha rahe ye hum sab par ehsaan hai

waqayi inki gazalon mein gazal ka jadu hai

ye sher to bus

जानता हूँ बाद मरने के मुझे फूँकेंगे लोग
मैं मगर ज़िंदा रहूँगा लकड़ियाँ जल जायेंगी

उसके बस्ते में रखी जब मैंने मज़हब की किताब
वो ये बोला अब्बा मेरी कापियाँ जल जायेंगी

रूह मे तबदील हो जाता है मेरा ये बदन
जब किसी की याद में हद से गुज़र जाता हूँ मैं

jaise man moh gaye

दर्पण साह "दर्शन" said...

अपने हिस्से की जिन्हें मैं नींद आया सौंपकर
ग़म है अक़्सर उनके ख्वाबों में भी मर जाता हूँ मैं

WAH !!

EK ACCHE GHAZALKKAR KI ACCHI RACHNA PADHANE HETU SADHUVAAD !!

सतपाल said...

ये नहीं कि नाव की ही ज़िन्दगी खतरे में है
दौर है ऐसा कि अब पूरी नदी खतरे में है
.. is nayaab she'r ke liye dil se daad.

jogeshwar garg said...

सतपालजी!
बहुत आभार आपका कि आपने भाई सुरेन्द्र चतुर्वेदी की ग़ज़लों से रूबरू करवाया. चारों ग़ज़लें बहुत ही बेहतरीन हैं.