Friday, January 8, 2010

डा० मधुभूषण शर्मा ‘मधुर’ की ग़ज़लें















1 अप्रैल 1951 में पंजाब में जन्मे डा० मधुभूषण शर्मा ‘मधुर’ अँग्रेज़ी साहित्य में डाक्टरेट हैं. बहुत ख़ूबसूरत आवाज़ के धनी ‘मधुर’ अपने ख़ूबसूरत कलाम के साथ श्रोताओं तक अपनी बात पहुँचाने का हुनर बाख़ूबी जानते हैं.इनका पहला ग़ज़ल संकलन जल्द ही पाठकों तक पहुँचने वाला है.आप आजकल डी०ए०वी० महविद्यालय कांगड़ा में अँग्रेज़ी विभाग के अध्यक्ष हैं.

"आज की ग़ज़ल" के पाठकों के लिए प्रस्तुत हैं इनकी 4 ग़ज़लें

एक

दूर के चर्चे न कर तू पास ही की बात कर
अपना घर तू देख पहले फिर किसी की बात कर

आ बता देता हूँ मैं,क्या चीज़ है ज़िंदादिली
मौत के साये तले तू ज़िंदगी की बात कर

तू ख़ुदा को पा चुका है मान लेता हूँ मगर
मैं तो ठहरा आदमी तू आदमी की बात कर

गुम न कर इन मंदिरों और मस्जिदों में तू वजूद
इन अँधेरों से निकलकर रौशनी की बात कर

ख़ुद-ब-ख़ुद लगने लगेगा ख़ुशनुमा तुझको जहान
हो पराई या कि अपनी तू ख़ुशी की बात कर

ताज का पत्थर नहीं तू रंग फीका क्यों पड़े
बात उल्फ़त की चले तो मुफ़लिसी की बात कर

जब कभी भी बात अपनी हो तुझे करनी ‘मधुर’
दश्त में चलते हुए इक अजनबी की बात कर

बहरे-रमल(मुज़ाहिफ़ शक्ल):
फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन
2122 2122 2122 212


दो

इक बार क्या मिले हैं किसी रोशनी से हम
फिर माँगते चिराग़ रहे ज़िन्दगी से हम

कुछ है कि निभ रहे हैं अभी ज़िन्दगी से हम
वर्ना क़रीब मौत के तो हैं कभी से हम

क़तरे तमाम धूप के पीता रहा बदन
तब रू-ब-रू हुए हैं कहीं चाँदनी से हम

जो रुख़ बदलने के लिए कोई वजह नहीं
कह दो कि पेश आ रहे हैं बेरुख़ी से हम

बस रंज है तो है यही ,हैं सब को जानते
कह सकते भी नहीं हैं मगर ये किसी से हम

बहरे-मज़ारे(मुज़ाहिफ़ शक़्ल)
मफ़ऊल फ़ाइलात मुफ़ाईल फ़ाइलुन
221 2121 1221 2 12

तीन

सियासत की जो भी ज़बाँ जानता है
बदलना वो अपना बयाँ जानता है

है ग़र्ज़ अपनी-अपनी ही पहचान सबकी
कि कोई किसी को कहाँ जानता है

हैं अंगार लब और लफ़्ज़ उसके शोले
महब्बत की जो दास्ताँ जानता है

दिलों की है बस्ती फ़क़त अपनी मस्ती
जहाँ के ठिकाने जहाँ जानता है

चलो हम ज़मीं के करें ख़्वाब पूरे
हक़ीक़त तो बस आसमाँ जानता है

मुत़कारिब-चार फ़ऊलुन (122x4)
मसम्मन सालिम

चार

ख़ता है वफ़ा तो सज़ा दीजिए
वगर्ना वफ़ा को वफ़ा दीजिए

नहीं आपको भूल सकता कभी
किसी और को ये सज़ा दीजिए

मुसाफ़िर हूँ मैं आप मंज़िल मेरी
कोई रास्ता तो दिखा दीजिए

है अब जीना-मरना लिए आपके
जो भी फ़ैसला है सुना दीजिए

लिखे हर्फ़ दिल पे मिटेंगे नहीं
मेरे ख़त भले ही जला दीजिए

सताए हुए दिल के सपने-सा हूँ
निगाहों से अपनी शफ़ा दीजिए

बहरे-मुतका़रिब( मुज़ाहिफ़ शक्ल)
फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊ
122 122 122 12

संपर्क-
दूरभाष:01892-265558,
मोबाइल :9816275575

9 comments:

Mrs. Asha Joglekar said...

तू ख़ुदा को पा चुका है मान लेता हूँ मगर
मैं तो ठहरा आदमी तू आदमी की बात कर

गुम न कर इन मंदिरों और मस्जिदों में तू वजूद
इन अँधेरों से निकलकर रौशनी की बात कर

बहुत खूबसूरत गजलें । आभार पढवाने का ।

योगेश स्वप्न said...

क़तरे तमाम धूप के पीता रहा बदन
तब रू-ब-रू हुए हैं कहीं चँदनी से हम


sabhi gazlon ne moh liya , aabhaar.

तिलक राज कपूर said...

डॉ. साहब की ग़ज़लों में मुझे पूरी तरह मेरा अपना मिजाज मिला, बस कहने को क्‍या रह जाता है। हर ग़ज़ल और हर शेर पूरी ताकत से अपनी बात कह रहा है।

psingh said...

बहुत सुन्दर रचना
बहुत बहुत आभार

निर्झर'नीर said...

आ बता देता हूँ मैं,क्या चीज़ है ज़िंदादिली
मौत के साये तले तू ज़िंदगी की बात कर

तू ख़ुदा को पा चुका है मान लेता हूँ मगर
मैं तो ठहरा आदमी तू आदमी की बात कर

खूबसूरत गजलें पढवाने का आभार ।

नीरज गोस्वामी said...

बेहद असर दार ग़ज़लें कहीं हैं मधुर साहब ने...बहुत मज़ा आया पढ़ कर...हर शेर मुकम्मल है...सतपाल जी आप से गुज़ारिश है की जब इनकी किताब छपे मुझे उसकी एक प्रति जरूर भेजें...मुझे उसके बारे में अपने ब्लॉग पर लिख कर बहुत ख़ुशी होगी...
नीरज

jogeshwar garg said...

भाटियाजी !
"मधुर" साहब की गज़लें बहुत ही अच्छी लगी . गहनतम भावों की सहजतम अभिव्यक्ति सचमुच आनंद दायक है .
इतने अच्छे शायर से परिचय करवाने के लिए आपका आभार !

गिरीश पंकज said...

madhur ji ki madhur-pyari ghazale parh kar achchha laga. blog-yug ke karan bahut-se achchhe rachanakaron ka pataa chal raha hai, yah khushi ki baat hai. iss mahadesh me achchhe-achche rachanakar bhare-pade hai. aaj ki ghazal jaise madhyam unko samane lane ki sarthak koshish kar rahe hai.

निर्मला कपिला said...

वाह ये लाजवाब गज़लें पढने से रह ही गयी थी। लाजवाब प्रस्तुती है। इन्हें पढवाने के लिये आभार