Friday, July 23, 2010

स्व: श्री तलअत इरफ़ानी की गज़लें

तिलक राज वशिष्ट उर्फ़ तलअत इरफानी का जन्म पकिस्तान के गुजरांवाला तहसील के गाँव खनानी में हुआ । लेकिन बाद में वो कुरुक्षेत्र में आकर बस गए। नज़्म और ग़ज़ल बड़ी संज़ीदगी से कहते थे । 2003 में वो इस दुनिया को सदा के लिए विदा कह गए। आप स्व: मनोहर साग़र पालमपुरी के भी अज़ीज दोस्त थे । उनकी कुछ गज़लें आपके लिए पेश कर रहा हूँ और ये उस शायर के लिए "आज की ग़ज़ल" की तरफ से श्रदांजलि है।

ये शे’र देखिए "जटा और गंगा" जैसे शब्दों का बेमिसाल प्रयोग-

उतरे गले से ज़हर समंदर का तो बताएं
गंगा कहाँ छिपी है हमारी जटाओं में

और ये देखिए -

छुटता नहीं है जिस्म से यह गेरुआ लिबास,
मिलते नहीं हैं राम भरत को खडावोँ में

गज़लीयत के साथ-साथ अनोखी और अनूठी कहन -

छूते ही तुम्हें हम तो अन्दर से हुए खाली
बर्तन ने कहीं यूँ भी पानी को सदा दी है

रंगे-तसव्वुफ़-

दरीचे खिड़कियाँ सब बंद कर लो,
बस इक अन्दर का दरवाज़ा बहुत है

इनका अपना अलग ही अंदाज़ है और ये बेमिसाल है -

उछल के गेंद जब अंधे कुएं में जा पहुँची
घरों का रास्ता बच्चों पे मुस्कुरा उठता

खुशबू हवा में नीम के फूलों से यूँ उड़ी
तलअत तमाम गाँव का नक़्शा संवर गया


खिड़की पे कुछ धुँए की लकीरें सफर में थीं
कमरा उदास धूप की दस्तक से डर गया

ऐसा शायर शायरी के बारे में क्या कहता है पढ़िए एक छोटी सी खूबसूरत नज़्म-

मैं जब- जब,
अपने अन्दर की आंखें खोल रहा होता हूँ
चारों ओर
मुझे बस एक उसी का रूप नज़र आता है
नहीं चाहता कुछ भी कहना
लेकिन एक अजीब कैफ़ीयत
साँस-साँस इज़हारे तअल्लुक
यादें, आंसू, लोग, ज़मीं, आकाश, सितारे
जैसे कोई बहरे फ़ना में
आलम आलम हाथ पसारे
और मदद के लिए पुकारे
और वह सब जो
पीछे छूट चुका होता है
या आगे आने वाला होता है
जाने कैसे?
सन्नाटे की दीवारों को तोड़ के
अपने आप ज़बां में ढल जाता है
दूर अन्धेरे की घाटी में
एक दिया सा जल जाता है।

शिमला की याद में ये शे’र -

यह ठिठुरती शाम यह शिमला की बर्फ
दोस्तो! जेबों से बाहर आओ भी

ग़ज़ल कैसी हो? और शे’र कैसे कहा जाया? कहन क्या है और कैसी होनी चाहिए? गज़लीयत क्या है , परवाज़ क्या है ? कल्पना क्या है ? और नये शब्द कैसे प्रयोग किए जाएँ? इन सब सवालों का जवाब हैं तलअत साहब की शायरी।

लीजिए अब ये गज़लें मुलाहिज़ा कीजिए-

एक

टपकता है मेरे अन्दर लहू जिन आसमानों से
कोई तो रब्त है उनका ज़मीं की दास्तानों से

धुंआ उठने लगा जब संगे मरमर की चटानो से
सितारों ने हमें आवाज़ दी कच्चे मकानों से

समंदर के परिंदों साहिलों को लौट भी जाओ
बहुत टकरा लिए हो तुम हमारे बादबानोँ से

यह माना अब भी आंतों में कही तेजाब है बाकी
निकल कर जाओगे लेकिन कहाँ बीमारखानों से

वो अन्दर का सफर था या सराबे-आरज़ू यारो
हमारा फासला बढता गया दोनों जहानों से

लचकते बाजुओं का लम्ज़* तो पुरकैफ़ था "तलअत"
मगर वाकिफ न थे हम पत्थरों की दास्तानों से

लम्ज़-दोष लगाना

बहरे-हज़ज
मुफ़ाईलुऩ x 4

दो

बुझा है इक चिराग़े-दिल तो क्या है
तुम्हारा नाम रौशन हो गया है

तुम्हीं से जब नही कोई तअल्लुक
मेरा जीना न जीना एक सा है

तेरे जाने के बाद ए दोस्त हम पर
जो गुजरी है वो दिल ही जानता है

सरासर कुफ्र है उस बुत को छूना
वो इस दर्जा मुक़द्दस हो गया है

कहीं मुँह चूम ले उसका न कोई
वो शायद इस लिए कम बोलता है

हमी ने दर्द को बख्शी है अज़मत
हमी को दर्द ने रुसवा किया है

हयात इक दार है "तलअत" की जिस पर
अज़ल से आदमी लटका हुआ है

बहरे-हज़ज मुज़ाहिफ़ सूरत
मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फ़ऊलुन

तीन

बदन उसका अगर चेहरा नहीं है
तो फिर तुमने उसे देखा नहीं है

दरख़्तों पर वही पत्ते हैं बाकी
कि जिनका धूप से रिश्ता नहीं है

वहां पहुँचा हूँ तुमसे बात करने
जहाँ आवाज़ को रस्ता नहीं है

सभी चेहरे मुक़म्मल हो चुके हैं
कोई अहसास अब तन्हा नहीं है

वही रफ़्तार है "तलअत" हवा की
मगर बादल का वह टुकड़ा नहीं है

बहरे-हज़ज मुज़ाहिफ़ सूरत
मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फ़ऊलुन

चार

बस्ती जब आस्तीन के साँपों से भर गयी
हर शख्स की कमीज़ बदन से उतर गयी

शाख़ों से बरगदों की टपकता रहा लहू
इक चीख असमान में जाकर बिखर गयी

सहरा में उड़ के दूर से आयी थी एक चील
पत्थर पे चोंच मार के जाने किधर गयी

कुछ लोग रस्सियों के सहारे खड़े रहे
जब शहर की फ़सील कुएं में उतर गयी

कुर्सी का हाथ सुर्ख़ स्याही से जा लगा
दम भर को मेज़पोश की सूरत निखर गयी

तितली के हाथ फूल की जुम्बिश न सह सके
खुशबू इधर से आई उधर से गुज़र गयी

बहरे-मज़ारे(मुज़ाहिफ़ सूरत)
मफ़ऊल फ़ाइलात मुफ़ाईल फ़ाइलुन
221 2121 1221 2 12

5 comments:

तिलक राज कपूर said...

यूँ तो चारों ग़ज़लें उम्‍दा हैं लेकिन ये शेर मुझे खासतौर पर अपनी तबीयत के लगे

वो अन्दर का सफर था या सराबे-आरज़ू यारो
हमारा फासला बढता गया दोनों जहानों से

दरख़्तों पर वही पत्ते हैं बाकी
कि जिनका धूप से रिश्ता नहीं है

बस्ती जब आस्तीन के साँपों से भर गयी
हर शख्स की कमीज़ बदन से उतर गयी

कुर्सी का हाथ सुर्ख़ स्याही से जा लगा
दम भर को मेज़पोश की सूरत निखर गयी

Dr.Ajmal Khan said...

मरहूम तलअत इरफानी साहब की गज़्ले शानदार हैं.
आज की गज़ल पर पेश करने के लिये.शुक़्रिया

अमिताभ मीत said...

बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़लें..... शुक्रिया तलअत इरफ़ानी साहब की इन बेहतरीन ग़ज़लों के लिए.

गौतम राजरिशी said...

आज एकदम फुरसत से आया हूँ अपनी प्रिय पत्रिका पर...

फिलहाल "दोस्तो! जेबों से बाहर आओ भी" में ऐसा उलझ गया हूँ कि बाहर ही नहीं निकल पा रहा। क्या मिस्रा है इरफानी साब का ये...उफ़्फ़्फ़!

अभी देर तक रहूँगा इस पन्ने पर।

dheer said...

bahut khoob!
hazaar_haa daad!