Monday, November 15, 2010

मुशायरे के अगले दो शायर

मिसार-ए-तरह" सोच के दीप जला कर देखो" पर अगली दो ग़ज़लें मुलाहिज़ा कीजिए ।

जोगेश्वर गर्ग

जागो और जगा कर देखो
सोच के दीप जला कर देखो

खूब हिचक होती है जिन पर
वो सब राज़ बता कर देखो

आग लगाने वाले लोगो
इक दिन आग बुझा कर देखो

बारिश चूती छत के नीचे
सारी रात बिता कर देखो

कोई नहीं जिनका उन सब को
सीने से चिपका कर देखो

बच्चों के नन्हे हाथों को
तारे चाँद थमा कर देखो

"जोगेश्वर" उनकी महफ़िल में
अपनी ग़ज़ल सुना कर देखो

कुमार ज़ाहिद

लरज़ी पलक उठा कर देखो
ताब पै आब चढ़ा कर देखो

गिर जाएंगी सब दीवारें
सर से बोझ गिरा कर देखो

दुनिया को फिर धोक़ा दे दो
हँसकर दर्द छुपा कर देखो

तुम पर्वत को राई कर दो
दम भर ज़ोर लगा कर देखो

बंजर में भी फूल खिलेंगे
कड़ी धूप में जा कर देखो

अँधियारे में सुबह छुपी है
सोच के दीप जला कर देखो

लिपट पड़ेगी झूम के तुमसे
कोई शाख़ हिला कर देखो

ख़ाली हाथ नहीं है कोई
बढ़कर हाथ मिला कर देखो

ज़िन्दा हर तस्वीर है ‘ज़ाहिद’
टूटे कांच हटा कर देखो