Thursday, November 25, 2010

सोच के दीप जला कर देखो-आठवीं क़िस्त

पहले शायर : कमल नयन शर्मा । आप द्विज जी के भाई हैं और एयर-फ़ोर्स में हैं। इस मंच पर हम इनका स्वागत करते हैं।









कमल नयन शर्मा

दुख को मीत बना कर देखो
खुद को सँवरा पा कर देखो

मिलता है वो, मिल जाएगा
मन के अंदर जाकर देखो

कब भरते हैं पेट दिलासे
असली फ़स्लें पाकर देखो

भर देंगे वो तेरी झोली
उनकी धुन में गा कर देखो

कब लौटे है जाने वाले
फिर भी आस लगाकर देखो

मत भटको यूं द्वारे-द्वारे
सोच के दीप जला कर देखो

आप 'कमल' खुद खिल जाओगे
जल से बाहर आकर देखो

दूसरे शायर हैं जनाब कवि कुलवंत जी









कुलवंत सिंह

सोच के दीप जला कर देखो
खुशियां जग बिखरा कर देखो

सबको मीत बना कर देखो
प्रेम का पाठ पढ़ा कर देखो

खून बने अपना ही दुश्मन
हक़ अपना जतला कर देखो

मज़मा दो पल में लग जाता
कुछ सिक्के खनका कर देखो

सिलवट माथे दिख जायेंगी
शीशे को चमका कर देखो

जनता उलझी है सालों से
नेता को उलझा कर देखो

खुद में खोये यह बहरे हैं
जोर से ढ़ोल बजा कर देखो

और शाइरा निर्मला कपिला जी का स्वागत है आज की ग़ज़ल पर।









निर्मला कपिला

मन की मैल हटा कर देखो
सोच के दीप जला कर देखो

सुख में साथी सब बन जाते
दुख में साथ निभा कर देखो

राम खुदा का झगडा प्यारे
अब सडकों पर जा कर देखो

लडने से क्या हासिल होगा?
मिलजुल हाथ मिला कर देखो

औरों के घर रोज़ जलाते
अपना भी जलवा कर देखो

देता झोली भर कर सब को
द्वार ख़ुदा के जाकर देखो

बिन रोजी के जीना मुश्किल
रोटी दाल चला कर देखो