Thursday, September 15, 2011

फ़रहत शहज़ाद


क्या हुआ ग़र खुशी नहीं बस में
मुस्कुराना तो इख़्तियार में है

"आज की ग़ज़ल" का ये पौधा ३ साल पहले लगाया था और अब आप सब की दुआओं से शाखों पर कोंपलें फूंट आईं हैं और जब कोंपलें फूंट रही हों तो "फ़रहत शहज़ाद साहब" याद आ जाते हैं।मैं बहुत शुक्रगुज़ार हूँ उनका कि मेरी इक विनती पर उन्होंने इस मंच के लिए अपनी दो ग़ज़लें भेजी हैं। यूँ तो उनकी बहुत सारी ग़ज़लें नेट पर हैं लेकिन उनकी पसंदीदा ग़ज़लें जब उनके द्वारा भेजी गई हों तो बात कुछ और हो जाती है। फ़रहत साहब किसी परिवय के मोहताज नहीं हैं। शायरी से ज़रा सा तअल्लुक रखने वाला उनके नाम से वाकिफ़ है।

ग़मों ने बाँट लिया है मुझे यूँ अपस में
कि जैसे मैं कोई लूटा हुआ खज़ाना था


मेहदी साब ने इनकी बहुत सी ग़ज़लें गाईं और वो तमाम ग़ज़लें अमर हो गईं। फिर चाहे वो-तनहा-तनहा मत सोचा कर हो, या खुली जो आँख तो"..हो, ये सब ग़ज़लें हमें अपने साथ बहा ले जाती हैं और शायर का अनुभव , पूरी दुनिया का अनुभव बन जाता है। आपबीती , जगबीती बन जाती है और यही बात किसी एक शायर को बुलंदियों तक लेके जाती है।

ज़िन्दगी को उदास कर भी गया
वो कि मौसम था एक गुज़र भी गया

साथ ज़माना है लेकिन
तनहा तनहा रहता हूँ

धड़कन धड़कन ज़ख़्मी है
फिर भी हँसता रहता हूँ

खाकर ज़ख़्म दुआ दी हमने
बस यूँ उम्र बिता दी हमने


एक बस तू ही नहीं मुझसे ख़फ़ा हो बैठा
मैंने जो संग तराशा वो ख़ुदा हो बैठा

कितने ऐसे अशआर हैं जो इस कलम से निकले हैं और हम लोगों तक पहुँचे और अमर हो गए। मैं बड़े आदर के साथ ये ग़ज़लें यहाँ पेश कर रहा हूँ-


ग़ज़ल

जानना मुझको मेरी जान बहुत आम नहीं
मेरे हाथों में जो खाली है मेरा जाम नहीं

जीत और हार मुक़द्दर है मगर जाने-अज़ीज
वक़्त की लहर मिटा पाए मैं वो नाम नहीं

साथ रख मुझको, कठिन वक़्त में काम आऊंगा
दश्त में, आस का साया हूँ, कड़ी शाम नहीं

आइना घर है मेरा, ढूँढने वालो, मुझको
नाम सब मेरे हैं, और मेरा कोई नाम नहीं

साथ चलने की ज़रा सोच के हामी भरना
उम्र,दो गाम सही,ज़िंदगी दो गाम नहीं

कौन है,क्यों है,कहाँ से है,कहाँ तक तू है
जब से सोचा है तुझे,ज़हन को आराम नहीं

मेरे सीने में समंदर है, तो लब पर सहरा
प्यास,आग़ाज़ सही,तिशनगी,अंजाम नहीं

बहरे-रमल की मुज़ाहिफ़ शक्ल
फ़ाइलातुन फ़'इ'लातुन फ़'इ'लातुन फ़ालुन
2122 1122 1122 112/22



ग़ज़ल

बिछुड़ के मुझसे, मेरे तार-तार दामन से
सुना है अब वो फ़सुर्दा है अपने जीवन से

न जाने किस तरह काँटो से भर गया दामन
सफ़र तो हमने किया था शुरू गुलशन से

हरेक शख़्स ये समझा मैं पी रहा था शराब
फ़रार ढूँढ रहा था मैं एक उलझन से

उसे ख़बर भी न हो पाई,खुद गंवा के उसे
तमाम उम्र उसी का रहा मैं तन-मन से

अजब घुटन में घिरा है नफ़स-नफ़स मेरा
बिछुड़ गया मेरा "दिल-घर’, "सुकून-आंगन" से

तमाम उम्र रहा दिल में तेरे ग़म की तरह
अजीब सा मेरा रिश्ता है "हिज्र-सावन" से

अगरचे कम न था "शहज़ाद" हौसला दिल का
वो मात खा ही गया अपने बावले-पन से

बहरे-मुजत्तस की मुज़ाहिफ़ शक्ल
म'फ़ा'इ'लुन फ़'इ'लातुन म'फ़ा'इ'लुन फ़ा'लुन
1212 1122 1212 22/ 112

इस शे’र-

न जाने किस तरह काँटो से भर गया दामन
सफ़र तो हमने किया था शुरू गुलशन से

को पढ़ने के बाद मैनें उनसे गुज़ारिश की थी कि इस मिसरे में ऐसा लगता है कुछ टाइप करने से रह गया है तो उन्होंने ये जवाब दिया-

"Mujhey khushi hey ke tum ne itni tawajja se par-ha ke ye sawal zehen men uthey. Let me answer them in your sequence only.

1)Nahin, pehley misrey men kuchh type honey se nahin chhota.
ChoNkey SHUROO, dar-asl Sheen, Ray, Wa-o and Ain mil ker banta hey aur Ain ko poorey taur per sab pronounce nahin ker patey, is liy-e is lafz ka wazan jan-ney ke liy-e zaroori hey ke isey "SHUROOK" ke taur per par-ho, wazan poora hoja-ey ga aur dar-haqeeqat yahi is lafz ka sahi wazan hey.

2)"Hijr-Sawan", "Dil-Ghar", "Sukoon-AaNgan" waghera do lafz jor ker aik bana-ee huee tarkeebein hein jo original Urdu meN aam taur per ista-maal hoti theen lekin ab kam sha-er inhein istamaal kertey hein. "Hijr-Sawan", yani, Hijr ka sawan, "Dil-Ghar", yani Dil ka ghar n "Sukoon-AaNgan" yani Sukoon ka aaNgan waghera.Mein ne kafi purani tarkeeboN ko naya kerney ki koshish ki hey aur ye alfaaz us koshish ka aik hissa hein.

Agar further koi baat, sawaal zehen meN aa-ey to be-jhijak likh dena."

Tumhara,
FS

और आइए अब उनका ये दिलकश-अंदाज़ देखते और सुनते हैं जिसे उन्होंने समंदर के किनारे शूट किया है-




अहमद अली बर्की साहब का शुक्रिया उन्होंने ग़ज़लों को उर्दु मे टाइप करके उसे इमेज में तबदील किया और फ़रहत साहब का तहे-दिल से शुक्रिया इस मंच के लिए ग़ज़लें भेजने का।

4 comments:

तिलक राज कपूर said...

क्या हुआ ग़र खुशी नहीं बस में
मुस्कुराना तो इख़्तियार में है
बस एक शेर ही काफ़ी है।
फ़रहत साहब को दिली मुबारकबाद, खूबसूरत ग़ज़लों और अशआर के लिये।

singhSDM said...

फ़रहत साहब को दिली मुबारकबाद, बेहद खूबसूरत ग़ज़लों और अशआर के लिये।

प्रतीक माहेश्वरी said...

एक से एक बेहतरीन शेर.. हम सबके साथ बांटने के लिए बहुत शुक्रिया...

आभार
तेरे-मेरे बीच पर आपके विचारों का इंतज़ार है...

Navin C. Chaturvedi said...

विजया दशमी की हार्दिक शुभकामनाएं। बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक यह पर्व, सभी के जीवन में संपूर्णता लाये, यही प्रार्थना है परमपिता परमेश्वर से।
नवीन सी. चतुर्वेदी