Wednesday, October 26, 2011

दिवाली की शुभकामनाएँ















आज बिखरी है हवाओं में चरागों की महक
आज रौशन है हवा चाँद-सितारों की तरह..सतपाल ख़याल