Monday, May 10, 2010

कौन चला बनवास रे जोगी- पहली क़िस्त












"कौन चला बनवास रे जोगी" राहत इन्दौरी साहब की ग़ज़ल से लिए इस मिसरे पर कई शायरों ने ग़ज़लें कहीं है या यों कहो कि राहत साहब की ज़मीन पर शायरों ने हल चलाने की हिम्मत की है। कई ग़ज़लें आईं है जो कि़स्तों मे पेश की जाएँगी।पहले हाज़िर हैं दो ग़ज़लें-

एम.बी.शर्मा "मधुर"

यूँ लेकर सन्यास रे जोगी
आएँ न भगवन पास रे जोगी

मन का द्वार न खुल पाया तो
वन भी कारावास रे जोगी

रावण आज अयोध्या में जब
राम ले क्यूँ बनवास रे जोगी

जो दुनिया से भागा उसपे
कौन करे विश्वास रे जोगी

युग बीते जो मिट न सकी वो
जीवन अनबुझ प्यास रे जोगी

जो ख़ुद से ही हारा उसको
कौन बँधाए आस रे जोगी

इंसानों में ज़ह्र जब इतना
साँपों में क्या ख़ास रे जोगी

सत्य ‘मधुर’ भी कड़वा लगता
आए किसको रास रे जोगी

पवनेंद्र "पवन"

बाहर योग-अभ्यास रे जोगी
भीतर भोग-विलास रे जोगी

रात सुरा यौवन की महफ़िल
दिन को है उपवास रे जोगी

घर में चूल्हे-सी,जंगल में
दावानल-सी प्यास रे जोगी

सन्यासी के भेस में निकला
इन्द्रियों का दास रे जोगी

झोंपड़ छोड़ महल में रहना
ये कैसा सन्यास रे जोगी

मर्यादा को बंधन समझा
घर को कारावास रे जोगी

लोग हैं जितने ख़ास वतन में
उन सब का तू ख़ास रे जोगी

घर सूना कर ख़ूब रचाता
वृंदावन में रास रे जोगी

जब सुविधाएँ पास हों सारी
सब ऋतुएँ मधुमास रे जोगी

दूर ‘पवन’ को अब भी दिल्ली
तेरे बिल्कुल पास रे जोगी