Tuesday, November 6, 2012

द्विजेन्द्र ‘द्विज’ जी की एक ग़ज़ल












ग़ज़ल

जिनके रस्तों में उजाले ही उजाले होंगे
कौन कहता है वही मंज़िलों वाले होंगे

अज़्म की शम’अ जो साथ अपने लिये चलते हैं
उनकी राहों में उजाले ही उजाले होंगे

हिर्स ने फ़स्ल जो फ़ाक़ों की उगाई है यहाँ
सबके हाथों में भला कैसे निवाले होंगे

अपने मेहमान को भरपेट खिलाकर खाना
उसने अपने लिए पत्थर ही उबाले होंगे

अब तो दो घूँट भी पानी के ग़नीमत जानो
यूँ तो महफ़िल में पियाले ही पियाले होंगे

सोज़ खो जाएगा अल्फ़ाज़ के घेरों में कहीं
प्यार के नाम रिसाले ही रिसाले होंगे

धो चुकी होगी उन्हें वक़्त की बारिश अब तक
अब वो मंज़र वहाँ होंगे न हवाले होंगे

होश में तो था कठिन चार क़दम भी चलना
लग़्ज़िशों ने ही मेरे पाँव सँभाले होंगे

शाम है सर्द चलो चल के उन्हें भी सुन लें
दिल से कुछ शे’र नये ‘द्विज’ ने निकाले होंगे


GHazal

jinke rastoN meN ujaale hee ujaale hoNge
kaun kahtaa hai vahee manziloN waale hoNge

azm kee sham’a jo saath apne liye chalte haiN
unkee raahoN meN ujaale hee ujaale hoNge

hirs ne fasl jo faaqoN kee ugaaee hai yahaaN
sabke haathoN meN bhalaa kaise nivaale hoNge

apne mehmaan ko bhar bhar-peT khilaa kar khaanaa
usne apne liye patthar hee ubaale hoNge
ab to do ghooNT bhee paanee ke GHaneemat jaano
yooN to mahfil meN piyaale hee piyaale hoNge

soz kho jaaegaa alfaaz ke gheroN meN kaheeN
pyaar ke naam risaale hee risaale hoNge

dho chukee hogee unheN waqt kee baarish ab tak
ab wo maNzar vahaaN hoNge na hawaale hoNge

hosh meN to thaa kaTHin chaar qadam bhee chalnaa
lagzishoN ne hee mere paaNv saNbhaale hoNge

shaam hai sard chalo chalke unheN hee sun leN
dil se kuCh sher naye `dwij' ne nikaale hoNge.

5 comments:

यादें....ashok saluja . said...

सच्चे और खूबसूरत अहसासों में डूबी......
अपने मेहमान को भरपेट खिलाकर खाना
उसने अपने लिए पत्थर ही उबाले होंगे

मुबारक कबूलें!

द्विजेन्द्र ‘द्विज’ said...
This comment has been removed by the author.
तिलक राज कपूर said...

'उनके हौठों पे हँसी,पॉंव में छाले होंगे' की याद दिला दी। मुकम्‍मल ग़ज़ल पर बधाई हो द्विज जी।

PRAN SHARMA said...

MAHEENON BAAD HEE DWIJ JI KEE GAZAL
PADHNE KAA SUNAHRA MAUQA MILAA HAI . EK - EK SHER PADH KAR MAIN
AANAND MEIN DOOB GAYAA HUN .

PRAN SHARMA said...

MAHEENON BAAD HEE DWIJ JI KEE GAZAL
PADHNE KAA SUNAHRA MAUQA MILAA HAI . EK - EK SHER PADH KAR MAIN
AANAND MEIN DOOB GAYAA HUN .